america

दरअसल, विमान हादसे की जिम्मेदारी ईरान ने ले ली है। ईरानी मीडिया के मुताबिक ईरान आर्मी ने अपनी गलती मानते हुए कहा है कि धोखे से उसने यूक्रेन के विमान को मार गिराया था। बता दें कि इस विमान हादसे में 176 यात्रियों की मौत हो गई थी।

अमेरिका-ईरान विवाद को लेकर अमेरिकी सदन ने जंग रोकने के पक्ष में प्रस्ताव पारित किया, जिसके बाद राष्ट्रपति ट्रंप के हाथ बंध गये, लेकिन ट्रंप ने अटैक करने का नया तरीका ढूढ़ निकाला।

नई दिल्ली।  साल 2020 की शुरुआत दुनिया में बड़ी हलचलों के साथ हुई है। फिर चाहे अमेरिका और ईरान के बीच विवाद हो या फिर भारत में लगातार हो रहे सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन। 2020 में दुनिया के सामने कौन-सी बड़ी चुनौती होंगी इनको लेकर अमेरिका के एक ग्रुप ने रिपोर्ट जारी की है। …

दिल्ली: अमेरिका और ईरान के बीच का विवाद जंग तक पहुंच चुका है। ऐसे में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) की बयानबाजी आग में घी डालने का काम कर रही है।

ईरानी सेनापति कासिम सुलेमानी की हत्या के बाद अमेरिका और ईरान के बीच युद्ध छिड़ जाने की जो आशंका थी, वह अभी तक आशंका ही है, यह संतोष का विषय है।

ईरानी जनरल कमांडर कासिम सुलेमानी को हमले में मार गिराने के बाद अमेरिका और ईरान में हाल के दिनों में तनाव काफी बढ़ गया था। लेकिन अब अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप के बयान के बाद दोनों देशों के बीच तनाव कम होने की संभावना है।

अमेरिका और ईरान में जंग की आशंका के बीच इराक में अमेरिकी सेना के ठिकानों पर बुधवार को हमला हुआ था। जिसमें ईरान की तरफ से अमेरिका के 80 से ज्यादा सैनिकों को मार गिराने का दावा किया गया था।

ईरान और अमेरिका के बीच पिछले लंबे समय से बने तल्ख रिश्तों के बाद अब दोनों के बीच युद्ध की स्थिति बनती दिख रही है। ईरान के लिए आज बुधवार का दिन बेहद चर्चा वाला रहा।

अमेरिका और ईराक के बीच हो रही जंग को लेकर कई देशों ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। भारत ने कई बार इस बाबत अमेरिका से बात भी की, वहीं पाकिस्तान समेत रूस, चीन इजराइल आदि कई देशों ने जंग पर अपनी राय दी है।