Assam

असम में भयानक हादसा हो गया है। तिनसुकिया के पास ऑयल इंडिया के तेल के कुएं के पास भीषण विस्फोट हुआ है। इस घटना में तीन लोग गंभीर घायल हो गए हैं।

मूसलाधार बारिश और बाढ़ ने देश में तबाही मचा रखी हैं। कहीं सड़कें डूब गयीं, तो कहीं लोगों के घर जमींदोज हो गए। पानी लोगों की मौत का सबब बना।

असम में भारी बारिश ने लोगों का जीवन तबाह कर दिया है। राज्य के अधिकतर हिस्सों में बाढ़ हैं। राज्य में आई बाढ़ से आमजन के साथ ही जानवरों को काफी नुकसान हो रहा है। काजीरंगा नेशनल पार्क और टाइगर रिजर्व  इस बाढ़ की चपेट में है।

अपना परिणाम देखने के लिए पीडीएफ फाइल डाउनलोड करें। इस फाइल में अगर आपका टिकट नंबर है तो आप ईनाम के हकदार हैं। किस्मत चमकी तो आपके खाते में 10 लाख रुपए भी आ सकते हैं।

असम में बाढ़ और कोरोना की दोहरी मार के चलते हालात बद से बदतर होते जा रहे हैं। लोगों को बुनियादी सुविधाओं के अलावा पेट भरने को खाना तक मयस्सर नहीं है।

मानसून आया नहीं कि बाढ़ का सिलसिला जारी हो गया। देश के कई राज्यों में हर तरफ सिर्फ पानी ही पानी दिखाई दे रहा है। ऐसे में असम में बाढ़ ने जनजीवन को पूरी तरह से तबाह करके रख दिया है।

असम में सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियाँ उड़ गयी जब एक विधायक के पिता के जनाजे में हजारों लोगों का जन सैलाब उमड़ पड़ा। प्रशासन ने 3 गाँवों को सील कर दिया।

देशभर में मानसून ने पकड़ तेज कर ली है। कई राज्यों में भारी बारिश हो रही है। इसके साथ पूर्वोत्तर के राज्यों में बारिश बन बरस रही है। मानसूनी बारिश की वजह असम बाढ़ की चपेट में है। प्रदेश के 23 जिले बाढ़ से प्रभावित है।

असम में भूटान ने अपनी तरफ से नदियों का पानी रोके जाने की खबरों को खंड़न किया है। भूटान के विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी किया है और भारत को आश्वस्त किया है।