astrology

जयपुर:माह – कार्तिक,तिथि – नवमी ,पक्ष – कृष्ण,वार – मंगलवार,नक्षत्र – पुष्य ,सूर्योदय – 06:25,सूर्यास्त – 17:45,चंद्रोदय – 24:49,चौघड़िया चर – 09:18 से 10:41,लाभ – 10:41 से 12:05, अमृत – 12:05 से 13:29, शुभ – 14:53 से 16:17।

कार्तिक मास में 8 दिन  बीच चुके हैं। यह मास भगवान विष्णु वा लक्ष्मी के साथ तुलसी की आराधना का मास है। जो भी इस मास नियमित पूजा-पाठ करता है। ज्योतिष के अनुसार इस महीने का बड़ा महत्व है। इस महीने में तुलसी की पूजा की जाती है और ऐसा करना बहुत ही शुभ है। यहां तक की कई परेशानियों को तुलसी की मदद से दूर किया जाता हैं। कार्तिक मास में किए जाने वाले तुलसी उपाय जो दुर्भाग्य दूर करते हैं।

जयपुर :माह – कार्तिक, तिथि – पंचमी , पक्ष – कृष्ण, वार – शनिवार, नक्षत्र – मृगशिरा – ,सूर्योदय – 06:24, सूर्यास्त – 17:48, शुभ – 07:52 से 09:17, चर – 12:06 से 13:30, लाभ – 13:30 से 14:55, अमृत – 14:55 से 16:19

कार्तिक,तिथि – तृतीया, पक्ष – कृष्ण,वार – गुरूवार,नक्षत्र – कृत्तिका, सूर्योदय – 06:22, सूर्यास्त – 17:50: चौघड़िया शुभ – 06:26 से 07:51,चर – 10:41 से 12:05,लाभ – 12:05 से 13:30,अमृत – 13:30 से 14:5। आज करवा चौथ का पर्व है। सुहागिने पूरी श्रद्धा से व्रत रखेंगी।

माह – कार्तिक, तिथि – प्रतिपदा , पक्ष – कृष्ण, वार – सोमवार,नक्षत्र – रेवती ,सूर्योदय – 06:20,सूर्यास्त – 17:53,चौघड़िया अमृत – 06:25 से 07:50, शुभ – 09:16 से 10:41, चर – 13:33 से 14:58,लाभ – 14:58 से 16:24। कार्तिक मास का आरंभ का दिन है सोमवार।

माह – आश्विन,तिथि – पूर्णिमा ,पक्ष – शुक्ल, वार – रविवार,नक्षत्र – उत्तराभाद्रपद ,सूर्योदय – 06:20,सूर्यास्त – 17:54,चौघड़िया  चर – 07:50 से 09:16,लाभ – 09:16 से 10:41,अमृत – 10:41 से 12:07,शुभ – 13:33 से 14:59। आज से कार्तिक मास के लिए दीपदान शुरु होगा। इस पूर्णिमा पर स्नान दान करने से जन्म-जन्मांतर के पाप छूट जाते हैं।आज बाल्मिकी जयंती है।

माह – आश्विन,तिथि – चतुर्दशी ,पक्ष – शुक्ल,वार – शनिवार,नक्षत्र – उत्तराभाद्रपद,सूर्योदय – 06:19,सूर्यास्त – 17:55, चौघड़ियां शुभ – 07:50 से 09:16,चर – 12:07 से 13:33,लाभ – 13:33 से 14:59,अमृत – 14:59 से 16:25।

जयपुर माह – आश्विन,तिथि – त्रयोदशी,पक्ष – शुक्ल,वार – शुक्रवार,नक्षत्र – पूर्वाभाद्रपद,सूर्योदय – 06:19,सूर्यास्त – 17:56, चौघड़िया चर – 06:23 से 07:49,लाभ – 07:49 से 09:15,अमृत – 09:15 से 10:42,शुभ – 12:08 से 13:3

मास-आश्विनी, पक्ष-शुक्ल, तिथि द्वादशी, दिन-बृहस्पतिवार, राहुकाल 01 बजकर 30 मिनट से 03 बजे तक, सूर्योदय का समयसुबह 06 बजकर 18 मिनट पर,सूर्यास्त: शाम 06 बजकर 57 मिनट पर

माह – आश्विन, तिथि – एकादशी, पक्ष – शुक्ल, वार – बुधवार, नक्षत्र – धनिष्ठा, सूर्योदय – 06:18,सूर्यास्त – 17:58, चौघड़िया लाभ – 06:22 से 07:48,अमृत – 07:48 से 09:15,शुभ – 10:42 से 12:08,चर – 15:01 से 16:28। आज एकादशी तिथि है। व्रत उपवास के लिए ये दिन उत्तम है।