astrology news

जयपुर: होली सांप्रदायिक सौहार्द का त्योहार है। दीवाली की तरह ही इस त्योहार को भी अच्छाई की बुराई पर जीत का त्योहार माना जाता है। हिंदुओं के लिए होली का पौराणिक महत्व भी है। इस त्योहार को लेकर सबसे प्रचलित है प्रहलाद,  होलिका और हिरण्यकश्यप की कहानी। लेकिन इससे केवल यही नहीं बल्कि और भी कई …

जयपुर: इस साल पड़ने वाले तीन सूर्य ग्रहणों में पहला 15 फरवरी की मध्य रात्रि शुरू हो रहा है। इस ग्रहण का मोक्ष 16 फरवरी को सुबह चार बजे होगा। यह ग्रहण रात में होने के कारण भारतीय उपमाद्वीप में दिखाई नहीं देगा। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार, इसका ग्रहण का राशि प्रकृति और जीवों पर पड़ेगा। …

सहारनपुर: भगवान शंकर, देवों के देव और महादेव। भोलेनाथ एक ऐसे देवता है, जो अपने भक्त पर तुरंत ही प्रसन्न होते हैं और अपनी कृपा दृष्टि बनाए रखते है। रावण ने भी भगवान शंकर की अराधना की थी। रावण को भगवान शंकर का अति प्रिय भक्त माना जाता है, क्योंकि रावण भगवान शंकर को प्रसन्न …

जयपुर: हिन्दू धर्म में पीले रंग को शुभ माना गया है। पीला रंग शुद्ध और सात्विक प्रवृत्ति का प्रतीक माना जाता है। यह सादगी और निर्मलता को भी दर्शाता है। वसंत पंचमी के पर्व पर वैसे भी चटख पीला रंग उत्साह और विवेक का प्रतीक माना जाता है। इसके साथ सफेद रंग से जुड़ी शांति …

जयपुर:साल 2017 अपने अंतिम पड़ाव पर है। नया साल 2018  दस्तक देने वाला है। इस बार नया साल ढेर सारी खुशियां लेकर आ रहा है। खासियत है कि नए साल का पहला दिन सोमवार से शुरू हो रहा है। इसी साल का आखिरी दिन भी सोमवार को पड़ रहा है। विद्वानों के अनुसार, मानें तो …

मेष : किसी संत पुरुष का आशीर्वाद मानसिक शान्ति प्रदान करेगा। यात्रा आपको थकान और तनाव देगी- लेकिन आर्थिक तौर पर फ़ायदेमंद साबित होगी। लोग आपको आशाएँ और सपने देंगे, लेकिन असल में सारा दारोमदार आपके प्रयासों पर रहेगा। प्यार-मोहब्बत के लिहाज़ से दिन थोड़ा मुश्किल रहेगा। अपने ज़बरदस्त आत्मविश्वास का फ़ायदा उठाएँ, बाहर निकलें और …

जयपुर: सूर्य और शनि का दृष्टि संबंध बनता है तो पूरा संसार उसके प्रकोप का भागी बनता हैं। शास्त्रों के अनुसार सूर्य ने शनिदेव को कुरूप और काले रंग की वजह से स्वीकार नहीं किया था। यही कारण है कि सूर्य और शनि का दृष्टि संबंध कभी अच्छा नहीं रहा है। विद्वानों के अनुसार सूर्य और …

कीजापेरुमपल्लम: ज्योतिष शास्त्र में राहु और केतु को छाया ग्रह कहते हैं। नौ ग्रहों के निर्माण में इन दो ग्रहों की भी भूमिका है। सभी ग्रहों का अपना-अपना स्वभाव है। इस स्वभाव के कारण ही ये जातक पर अपना प्रभाव डालते हैं। हिन्दू धर्म में हर ग्रह किसी न किसी देवता से संबंधित है। यह …

जयपुर: पवनपुत्र हनुमान ग्रहों के प्रकोप से मनुष्य को बचाते हैं। शायद यही वजह है कि इन्हें कलयुग के देवता कहा गया है क्योंकि कलयुग में मनुष्य अगर मंगल, शनि, राहु, केतु जैसे पापी ग्रहों के दुष्प्रभाव से बचना चाहता है तो हनुमत आराधना ही उसके पास एकमात्र उपाय है। मंगलवार का दिन हनुमान जी को …

जयपुर:सामुद्रिक शास्त्र एक ऐसा शास्त्र है जिसमें व्यक्ति के स्वभाव और चाल-चलन को उसके शरीर की भाव-भंगिमा से जाना जाता है। इस शास्त्र में वर्णन मिलता है कि यदि व्यक्ति शादी के लिए कोई लड़की ढूंढ रहा है तो उसे बिना जाने यह पता लगा सकता है कि वह कैसी चरित्र है। सामुद्रिक शास्त्र के …