ayodhya

रामजन्म भूमि बाबरी मस्जिद मुकदमे में रामलला के पक्ष में फैसला आने के बाद अयोध्या में 6 दिसंबर 1992 के विवादित ढाँचे की ध्वंस की बरसी पर सुरक्षा के इंतजाम बेहद चुस्त रहेंगे।

इस अवसर पर विभिन्न स्कूलों के बच्चों द्वारा कृषि के पुराने उपकरणों, सिंचाई के पुरानी विधियों/तकनीको, उन्नतिशील खेती के विधियों, मिट्टीकला से जुड़े उपकरणों आदि की बहुत ही सुन्दर प्रदर्शनी लगाई गयी।

राम जन्मभूमि पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद राम मंदिर को लेकर तैयारी तेज हो गई है। रामलला के भव्य मंदिर निर्माण के साथ ही शहर का दायरा भी बढ़ाने का प्रस्ताव है। शहर का बढ़ाकर 100 वर्ग किमी किया जाएगा।

श्रीराम जन्मभूमि परिसर में 06 दिसम्बर 1992 की घटना की परिपेक्ष्य में विभिन्न संगठनो द्वारा कतिपय कार्यक्रम आयोजित किये जाते है, इसको ध्यान में रखते हुए जिलाधिकारी अनुज कुमार झा ने सम्बन्धित क्षेत्र को जोन एवं सेक्टर में बांटते हुए मजिस्ट्रेटो की तैनाती की है।

अयोध्या में राम जन्मभूमि विवाद में मुस्लिम पक्ष ओर से पेश होने वाले वकील राजीव धवन को इस मामले से हटा दिया गया है। राजीव धवन ने सोशल मीडिया पर पोस्ट लिखकर इस बारे में जानकारी दी है।

अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद रविवार को अयोध्या में राम रसोई की शुरुआत हो गई है। रामलला के मंदिर के ठीक बाहर अमावा मंदिर में पटना के महावीर मंदिर ट्रस्ट ने राम रसोई की शुरुआत की।

अयोध्या में हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी आगामी 6 दिसंबर को होने वाले शौर्य दिवस को लेकर विश्व हिन्दू परिषद और रामजन्मभूमि न्यास मतभेद सामने आ रहे हैं।

अयोध्या में राम जन्मभूमि पर सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया। विवादित जमीन को राम लला को दे दी गई और मुसलमानों को मस्जिद के लिए दूसरी जगह 5 एकड़ जमीन देने का आदेश दिया।