ayodhya

कई वर्षो तक देश की राजनीति का केन्द्र रहे श्रीरामजन्मभूमि मंदिर विवाद का समाधान होने के बाद अब मंदिर निर्माण शुरू होने को लेकर चल रही कयासबाजी पर आगामी 18 जुलाई को विराम लग सकता है।

अयोध्या मंडल के मंडलायुक्त व जिला मजिस्ट्रेट अनुज कुमार झा ने अयोध्या धाम के परिक्षेत्र के में चल रहे विकास कार्यों का संयुक्त स्थलीय निरीक्षण किया।

अयोध्या जिले में बढ़ रहे कोरोना मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है। आज भी 14 व्यक्तियों की पॉजिटिव रिपोर्ट आने से प्रशासन शक्ति में दिखाई पड़ रहा है।

कांग्रेस जिला अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा भारतीय जनता पार्टी मोदी सरकार ने 70 साल के इतिहास में डीजल-पेट्रोल के मूल्यों में भारी बढोत्तरी करके जता दिया कि यह सरकार गरीब विरोधी है लेकिन कांग्रेस पार्टी चुप बैठने वाली नहीं। वह जनहित में हर गलत फैसले का डटकर विरोध करेगी।

अपने आराध्य के दर्शन के लिए विश्वभर में फैले उनके भक्तों को अब अयोध्या आने की जरूरत नहीं पड़ेगी बल्कि वह घर पर बैठकर ही अपने रामलला के दर्शन कर सकेगें।

आज की बड़ी खबर अयोध्या से आ रही है। यहां राममंदिर निर्माण के लिए शिलान्यास की तैयारी तेज हो गई है। दिल्ली में राममंदिर ट्रस्ट के सदस्यों की बैठक हुई जिसमें यह फैसला लिया गया है कि शिलान्यास के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अयोध्या आने का आमंत्रण दिया जाएगा।

अयोध्या मंडल के आयुक्त एमपी अग्रवाल ने बताया इसका मुख्य उद्देश्य युवाओं में स्किल डेवलपमेन्ट ट्रेनिंग व प्रोफेशनल ट्रेनिंग के जरिये रोजगार उपलब्ध कराना है। जिसमें पेट्रोकैमिकल्स, प्लास्टिक एवं उससे जुड़ी हुई इंजीनियरिंग की जानकारी दी जायेगी। अभ्यर्थियों को उनके ट्रेड से जुड़े कार्यो में रोजगार भी प्रदान जायेगा।

उत्तर प्रदेश के अयोध्या में रामलला के दर्शन श्रद्धालुओं को कल से करने को मिलेगा। जिसके लिए राम जन्म भूमि तीर्थ ट्रस्ट के पदाधिकारी स्थानीय स्तर पर व्यवस्थाओं को अमलीजामा पहना रहे हैं।

वर्तमान कुलपति के ही कार्यकाल में सीपीएमटी प्रवेश परीक्षा का संपादन का दायित्व मिला था। वह तो प्रवेश परीक्षा का कार्य स्थगित होने के बाद वक्त मद में विभिन्न प्रकार के भुगतान संबंधी अनियमितताएं प्रकट में आई इसमें भी छात्रों का पैसा वापस न करके करके जहां भ्रष्टाचार किया गया हैं।

इस वक्त की बड़ी खबर अयोध्या से आ रही है। अयोध्या स्थित बाबरी विध्वंस केस में गुरुवार को राम विलास वेदांती, बीजेपी नेता विनय कटियार, समेत कई आरोपी कोर्ट में पेश हुए। सभी ने अपने बयान दर्ज कराए। उसके बाद कोर्ट से बाहर आ गये।