ayodhya

अयोध्या में राम जन्मभूमि विवाद पर सुनवाई पूरी हो चुकी है। देश की सर्वोच्च अदालत इस मामले पर नवंबर महीने में अपना फैसला सुना सकती है। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली संविधान पीठ ने इस मामले की सुनवाई की है।

चंद्रकांत भाई सोमपुरा के दादा प्रभाशंकर सोमपुरा ही गुजरात के विख्यात सोमनाथ मंदिर के आर्किटेक्ट थे। यही नहीं, चंद्रकांत भाई के पिता भी देश के जाने माने आर्किटेक्ट रहे हैं।

राम जन्भूमि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई पूरी हो चुकी है। इस बीच अयोध्या मामले में नया मोड़ गया है। मध्यस्थता पैनल ने देश की सर्वोच्च अदालत को सूचित किया है कि 2.77 एकड़ की जमीन के बंटवारे के इस विवाद में वह समझौते तक पहुंच चुका है।

17 नंवबर की तारीख इसलिए खास है कि क्योंकि इसी दिन सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई सेवानिवृत हो रहे हैं, प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अगुवाई में 5 जजों की संविधान पीठ इस मामले ने लगातार 40 दिन तक सुनवाई की है।

अयोध्या विवाद पर बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में जारी निर्णायक सुनवाई सम्पन्न हो गयी। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने सुनवाई के बाद आदेश सुरक्षित रख लिया है।

शासन से मिली जानकारी के अनुसार 26 अक्टूबर को पूर्वाह्न 10 बजे वनवास से लौटे भगवान श्रीराम और उनके सहयोगियों पर केंद्रित रामकथा की 'झांकी' साकेत महाविद्यालय से प्रारंभ होकर मुख्य कार्यक्रम स्थल राम कथा पार्क तक जाएगी।

सुप्रीम कोर्ट में राम मंदिर विवाद पर बुधवार को सुनवाई खत्म हो गई है। पहले हिंदू और फिर मुस्लिम पक्ष ने देश की सबसे बड़ी अदालत में अपनी-अपनी आखिरी दलीलें रखीं। आखिर में मुस्लिम पक्ष ने दलीलें रखीं। इसके बाद चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली 5 सदस्यीय संवैधानिक बेंच ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है।

अयोध्या मामले में एक मुस्लिम पक्षकार इकबाल असांरी की इन दिनों खूब चर्चा है। इसके पहले अयोध्या भूमि विवाद के मुख्य पैरोकार उनके पिता 96 वर्षीय मोहम्मद हाशिम अंसारी इस केस के मुख्य पैरोकार हुआ करते थे। उनके निधन के बाद यह मुकदमा उनके बेटे इकबाल अंसारी लड़ रहे हैं।

अयोध्या का वर्षों पुराना विवाद चर्चा में तब आया जब 25 जनवरी 1986 को वकील उमेश चन्द्र पांडे ने फैजाबाद अदालत में दावा दायर किया कि श्री रामजन्मभूमि पर लगा ताला अनाधिकृत है। मुंसिफ ने जब अपने आदेश में ताला खोलने से इंकार कर दिया, तो आदेश के खिलाफ जिला न्यायाधीश की अदालत में अपील की गयी।

सुप्रीम कोर्ट में राम मंदिर विवाद पर आखिरी दिन की सुनवाई हो रही है है। बधवार सुनवाई की शुरुआत से ही देश की सर्वोच्च अदालत में तीखी बहस हो रही है। कोर्ट में जब हिंदू महासभा ने दलील रखनी शुरू की तो बहस छिड़ गई।