ayodhya ram mandir

इस घंटे की खास बात यह है कि इसमें गुणवत्तापूर्ण मेटल का उपयोग किया गया है। बताया जा रहा है कि जब यह घंटा बजेगा तो इसकी आवाज 15 किलोमीटर दूर तक सुनाई पड़ेगी।

अयोध्या में भूमि पूजन के बाद अब हर किसी की इच्छा है कि जल्द से जल्द भव्य राम मंदिर का निर्माण हो। इसके लिए लोगों ने दिल खोलकर दान देना शुरू कर दिया है।

श्री राम जन्मभूमि परिसर में मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन करने आए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साक्षात रामलला को दंडवत कर अपने माता-पिता और अपने संस्कारों को प्रकट किया।

हमें कोई दूसरा समझाना ही नहीं चाहेगा कि सांस्कृतिक स्वतंत्रता प्राप्ति के जश्न के कोलाहल के बीच एक दूसरी बड़ी आबादी अपनी सुरक्षा को लेकर इतनी भयभीत और अलग-थलग सी महसूस क्यों कर रही है।

उत्तर प्रदेश के अयोध्या में पीएम मोदी ने 5 अगस्त को राम मंदिर की नींव रखी, जिसके चलते पूरी दुनिया में धूम मची हुई थी। अयोध्या राम नगरी में चल रहे इस कार्यक्रम का लाइव प्रसारण दुनियाभर के तमाम देशों में देखा गया।

भूमिपूजन के बाद पीएम मोदी ने अपने संबोधन की शुरू राम मंदिर आंदोलन के परिचित नारे जय श्रीराम से नहीं बल्कि जय सियाराम और सियावर रामचंद्र की जय से की।

राममंदिर षिलान्यास के बाद मस्जिद निर्माण होने पर उनके जाने पर योगी ने साफ इंकार किया है। उन्होंने कहा है कि मस्जिद के शिलान्यास पर मुझे कोई बुलाएगा नहीं, और मैं जाऊंगा भी नहीं।

राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन होने के बाद संघ परिवार का एक बड़ा एजेंडा पूरा हो गया है। अब भाजपा का मकसद अयोध्या में राम मंदिर की भव्यता और अयोध्या के चौमुखी विकास की योजनाओं पर फोकस करना है।

राम मंदिर के लिए चले आंदोलन में अर्पण भी था तर्पण भी था, संघर्ष भी था, संकल्प भी था। जिनके त्याग, बलिदान और संघर्ष से आज ये स्वप्न साकार हो रहा है, जिनकी तपस्या राममंदिर में नींव की तरह जुड़ी हुई है, मैं उन सब लोगों को आज नमन करता हूँ, उनका वंदन करता हूं।

बुधवार को अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के भूमि पूजन को लेकर झाँसी मंडल में सुबह से ही पुलिस अलर्ट रही है। झाँसी, ललितपुर और जालौन में पुलिस ने सुबह से मोर्चा संभाल रखा है। बाजारों से लेकर धार्मिक स्थलों तक पर नजर रखी जा रही है। संदिग्धों से पूछताछ की गई। इसके अलावा सभी जिलों की सीमाएं सील है।