Ayurvedic medicines

प्रसिद्ध वैद्य कृष्ण लाल शर्मा ने यहां पर इसकी शुरुआत की थी जब उन्होंने 70 साल पहले उमा आयुर्वेद के नाम से फैक्ट्री खोली।

ये प्राकृतिक उत्पाद वऔषधियां आयुर्वेद से कोविड -19 के दौरान चिकित्सीय एजेंट के रूप में उपयोगी हो सकती हैं। एलोपैथिक दवाओं के रोगियों के साथ काम करने के लिएउन्हें एक अलग दवा के तौर पर प्रयोग किया जा सकता है।

प्रदेश सरकार के अपर मुख्य सचिव एमएसएई नवनीत सहगल ने बताया कि उत्तर प्रदेश के पीलीभीत व ललितपुर में फ़ार्मा पार्क बनाने की दिशा में तेज़ी से प्रयास किए जा रहे हैं। जिसके लिए भूमि का अधिग्रहण जारी है। साथ ही मेडिकल उपकरणों के निर्माण के लिए नोएडा गाज़ियाबाद, गोरखपुर, इलाहाबाद जैसे अनेक शहरों में योजनाएं प्रस्तावित हैं।

कोरोना वायरस का कहर लगातार बढ़ रहा है, इस घातक वायरस से दुनिया भर के देश जूझ रहे हैं। भारत में भी इस वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या लाखों में पहुंच गई है।

देश में लोग अब अपनी पारम्परिक भारतीय इलाज पद्धति आयुर्वेद को तेजी से अपना रहे है। बाजार में च्यवनप्राश, गिलोय, त्रिफला और आवलां जूस जैसी आयुर्वेदिक औषधियों की मांग में खासी तेजी देखी जा रही है।