bahujan samaj party

मायावती और बसपा के लिए उसका दलित वोट ही आधार वोट बैंक है। बसपा सुप्रीमों जानती है कि केवल दलित वोट बैंक उन्हे सत्ता तक पहुंचाने के लिए काफी नहीं है। ऐसे में बसपा के पास भाजपा के साथ जाने के अलावा और कोई विकल्प बचा भी नहीं है।

बसपा सुप्रीमों मायावती ने मुनकाद अली से उत्तराखंड प्रभारी का दायित्व वापस लेकर शमसुद्दीन राईनी को सौंप दिया है। इतना ही नहीं बसपा सुप्रीमों ने राईनी को यूपी के पांच मंडलों की जिम्मेदारी भी सौंपी है।

बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने ट्वीट करके सरकार पर यूपी में जंगलराज होने का आरोप लगाते हुए योगी हमला बोला है।

पिछले साल ही कांग्रेस में शामिल हुए होने वाले राजकिशोर सिंह राजनीति की हवा भांपने में माहिर कहे जाते है। उन्होंने अपने राजनैतिक जीवन की शुरूआत ही बहुजन समाज पार्टी से की थी।

बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने कहा कि प्रवासी श्रमिकों को लेकर सरकारे जितने दावे कर रही है वह दावे हकीकत से काफी दूर हैं।

मुख्यमंत्री के दिशा-निर्देश पर सरकारी अधिकारियों ने उन प्रवासी श्रमिकों की सुरक्षा व खाने-पीने की उचित व्यवस्था की होती तो वे लोग चाय पीने दुकान पर क्यों रुकतेे और उनकी क्यों मौत होती ? बसपा सुप्रीमों ने मुख्यमंत्री से मांग की है कि जिन अधिकारियों ने अपनी ड्यूटी सहीं नहीं निभाई है उनके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।

उत्तर प्रदेश में होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव 2020 को लेकर सियासी गलियारे में हलचल बढ़ गयी है। इसी कड़ी में यूपी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर शुक्रवार को बड़ा ऐलान हुआ है।

अपने जन्मदिन पर मायावती ने प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन कर मीडिया को संबोधित किया। मायावती ने कांशीराम को याद किया और पार्टी कार्यकर्ताओं से जनकल्याणकारी दिवस के रूप में अपना जन्मदिन मनाने का आह्लान किया।

बीएसपी प्रमुख  मायावती नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को वापस लेने के लिए आज राष्ट्रपति से मुलाकात करेंगी। मायावती के साथ बीएसपी प्रतिनिधिमंडल बुधवार को सुबह साढ़े दस बजे राष्ट्रपति से मुलाकात करके अपनी मांग रखेगा।

बसपा सुप्रीमों ने कहा है कि काफी आपा-धापी में व अपरिपक्व तरीके से देश में नोटबन्दी व जीएसटी थोपने आदि का ही दुष्परिणाम है कि देश को आर्थिक मन्दी के खतरे का सामना करना पड़ रहा है। रोजगार चैपट है तथा बेरोजगारी जबर्दस्त तरीके से लोगों को परेशान कर रही है तथा आम जनजीवन बुरी तरह से देश में प्रभावित है।