Ballia Firing Case

दुर्जनपुर ग्राम में एसडीएम और सीओ पुलिस की मौजूदगी में हुई हिंसा मामले में आखिरकार वही हुआ जो बलिया बैरिया के विधायक सुरेंद्र सिंह ने कहा था।

रेवती थाना क्षेत्र के दुर्जनपुर ग्राम की आशा प्रताप सिंह ने अपर सिविल जज, जूनियर डिवीजन, चतुर्थ न्यायालय में एक प्रार्थना पत्र दिया , जिसमें उनके द्वारा कहा गया है कि गत 15 अक्टूबर को दुर्जनपुर ग्राम के सरकारी सस्ते गल्ले के दुकान के आवंटन के लिये खुली बैठक हो रही थी।

मुख्य आरोपी धीरेन्द्र सिंह की भाभी आशा प्रताप सिंह ने प्रशासन को दो टूक कहा है कि अगर शुक्रवार शाम 05 बजे तक उनके पक्ष की एफआईआर नहीं दर्ज की गई तो उनके घर की 07 महिलायें घर में ही आत्मदाह कर लेंगी।

अपने विवादित बयानों को लेकर हमेशा मीडिया की सुर्खियों में रहने वाले भाजपा के बैरिया क्षेत्र के विधायक सिंह आज मुख्य आरोपी धीरेंद्र प्रताप सिंह के समर्थन में न सिर्फ खुलकर सामने आ गए, बल्कि उन्होंने एक सैनिक के हाथों अपराधी की मौत होने का बयान देकर हत्या को ही सही ठहरा दिया ।

बता दे कि बलिया कांड के मुख्य आरोपी धीरेंद्र सिंह को राजधानी लखनऊ के पालीटेक्निक चैराहे के पास से बीते रविवार को गिरफ्तार करने के बाद एसटीएफ उसे लेकर सड़क मार्ग से भारी सुरक्षा-व्यवस्था के बीच बलिया कोतवाली पहुंची थी।

बलिया कांड के मुख्य आरोपी धीरेंद्र सिंह को राजधानी लखनऊ के पालीटेक्निक चौराहे के पास से बीते रविवार को गिरफ्तार करने के बाद एसटीएफ उसे लेकर सड़क मार्ग से भारी सुरक्षा-व्यवस्था के बीच बलिया कोतवाली पहुंची थी।

भाजपा विधायक सुरेन्द्र सिंह ने आरोपी धीरेन्द्र सिंह का खुलकर पक्ष लेते हुए अपनी ही सरकार की पुलिस पर प्रश्न खड़ा कर दिया। उन्होंने पुलिस की कार्रवाई को एकतरफा बताते हुए पूरे प्रकरण की जांच सीबीसीआईडी को सौंपने की मांग की है।

बता दे कि बलिया कांड के मुख्य आरोपी धीरेंद्र सिंह को राजधानी लखनऊ के पालीटेक्निक चैराहे के पास से बीते रविवार को गिरफ्तार करने के बाद एसटीएफ उसे लेकर सड़क मार्ग से भारी सुरक्षा-व्यवस्था के बीच बलिया कोतवाली पहुंची।

लखनऊ के पालीटेक्निक चौराहे के पास से रविवार को मुख्य आरोपी धीरेंद्र सिंह को गिरफ्तार करने के बाद एसटीएफ उसे सड़क मार्ग से भारी सुरक्षा -व्यवस्था के बीच बलिया कोतवाली पहुंची।

कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने रविवार को सोशल मीडिया पर सवाल पूछकर भाजपा और प्रदेश की योगी सरकार को आड़े हाथों लिया है।