bank account

चरखे पर सरकार की तरफ से 35 प्रतिशत की सब्सिडी दी जाएगी। महिलाओं को कच्चा माल यानी पुनी भी इनके दरवाजे पर पहुंच जाएगा और तैयार माल घरों से ही उठाया जाएगा। उनकी मजदूरी की रकम जनधन, जीवन ज्योति, जीवन सुरक्षा और अटल सुरक्षा के माध्यम से मिलेगी।

नई दिल्लीः पीएम मोदी ने बीजेपी के सभी सांसदों और विधायकों को निर्देश दिए हैं कि वह अपने आर्थिक आय के स्त्रोतों का पूरा ब्यौरा दें। सामाज में आगे आकर उदाहरण पेश करें कि उनके पास कोई कालाधन नहीं है। पीएम ने सांसदों और विधायकों को 1 जनवरी को अपने बैंक स्टेटमेंट और खातों का …

पीएम मोदी के मिशन को पूरा करने और बैंक की कठिनाई को समझते हुए दोनों व्यापारियों ने बैंक में कैश जमा करा दिया। बैंककर्मियों ने भी इनकी मदद से राहत महसूस की और अगले दिन बुला कर इन्हें सम्मानित किया।

सरकार ने ग्रुप सी के सरकारी कर्मचारियों, रक्षा व सेना के जवानों को वेतन खाते से 10 हजार रुपए निकालने की छूट दी है। लेकिन बच्चों की पढाई, हॉस्टल खर्च, यात्राएं और घर के रुटीन खर्चों के लिए उन पर भारी दबाव बढ़ने की सूरत में इतने कम पैसे से उनका काम नहीं चलने वाला।

अगर आप अपने बैंक अकाउंट से ज्यादा पैसा ट्रांसफर करते हैं, या फिर आपके एकाउंट में एक निश्चित राशि से ज्यादा रकम डिपाजिट होती है तो सावधान हो जाइए। क्योंकि अब इसकी सूचना अपने आप इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को चली जाएगी।

याची का आरेाप था कि 225 करोड़ रूपये में से केवल 73 करोड़ रुपये की धनराशि ही विभाग उच्चीकरण के नाम पर खर्च हुई। परंतु स्वास्थ्य एवं चिकित्सा विभाग ने हाई कोर्ट के एनआरएचएम घोटाले में आदेश के बाद 2012 से बंद पड़े पीएलए अकाउंट की जगह रकम हड़पने की नीयत से केजीएमयू के पीएलए अकाउंट में जमा कर दी।

भूपेंद्र के साथी ने एक बैंक अकाउंट नंबर दिया जिसमें सभी ने 6 लाख 12 हजार रूपए जमा कर दिएl इन चारों को अप्रैल में मेडिकल के नाम पर गोरखपुर बुलाया गया। यहां 20-20 हजार रूपए मेडिकल के लगे। इसके बाद एलआईयू वेरिफिकेशन का फर्जीवाड़ा हुआ। यहां भी 10-10 हजार रुपए लिए गए।

लखनऊ: यूपी से बीजेपी प्रत्याशी शिवप्रताप शुक्ल की संपत्ति उनकी पत्नी की संपत्ति से करीब एक तिहाई कम है। शुक्ल ने नामांकन के साथ जो हलफनामा दाखिल किया है, उसमें उनकी संपत्ति करीब 3 करोड़ रुपये है। जबकि उनकी पत्नी की संपत्ति है करीब साढे चार करोड़। पत्नी की संपत्ति जयादा -कैश के मामले में …

लखनऊ: यूपी के लाखो पेंशनर्स के लिए अच्छी खबर है। अब उन्हें और उनके आश्रितों को मेडिकल रिंबर्समेंट पाने के लिए कोषागार के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे, बल्कि अब यह पैसा उनके बैंक एकाउंट में सीधे जमा होगा। प्रदेश सरकार ने पेंशनरों की राह में आने वाली इस अड़चन को सरल किया है। शासन ने …