bhim army

भीम आर्मी चीफ चन्द्रशेखर आजाद ने सक्रिय राजनीति में उतरने का ऐलान कर दिया है। इसी कड़ी में रविवार को नोएडा में उन्होंने नई पार्टी की घोषणा कर दी। उनकी नई पार्टी का नाम होगा-'आजाद समाज पार्टी'।

उत्तर प्रदेश की राजनीति में एक नए दल की आज एंट्री हो सकती है। यह दल यूपी की राजनीतिक समीकरण बदलने में अहम भूमिका निभा सकता है। पार्टी के गठन से बसपा और सपा को सीधे टक्कर मिलने की संभावना है।

संग्रामपुर थाना क्षेत्र के एक दलित की पीट-पीट कर हत्या कर दी गई थी। इस मामले ने मंगलवार को उस समय तूल पकड़ लिया जब प्रतापगढ़ भीम आर्मी के जिलाध्यक्ष मृतक प्रौढ़ के घर पहुंचे।

भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद को कोर्ट ने शर्तों के साथ दिल्ली आने की इजाजत दे दी है। दिल्ली आने से पहले उन्हें क्राइम ब्रांच के डीसीपी को सूचित करना होगा और बताए गए स्थान पर ही रुकना पड़ेगा।

सीएए और एनआरसी के विरोध में आज जामा मस्जिद में हो रहे प्रदर्शन में चंद्रशेखर शामिल हुए। भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर गुरुवार को ही शर्तों के साथ जमानत पर रिहा हुए हैं।

दिल्ली की एक अदालत ने दरियागंज हिंसा मामले में गिरफ्तार भीम आर्मी के चीफ चंद्रशेखर आजाद को जमानत दे दी है। वहीं, कोर्ट ने आजाद को 16 फरवरी तक प्रदर्शन नहीं करने का आदेश जारी किया है।

नागरिक संशोधन विधेयक को लेकर यूपी और दिल्ली में आंदोलन में भीम आर्मी के संस्थापक चन्द्रशेखर की सक्रियता आगामी दिल्ली विधानसभा चुनाव को लेकर है। पहले यूपी की राजनीति में सक्रिय रहे चन्द्रशेखर शुक्रवार को अचानक दिल्ली पहुंच गए जहां उन्होने अपनी गिरफ्तारी देकर एक खास वोट बैंक पर अपना निशाना साधा।

आजाद उर्फ रावण ने कहा, ‘‘मैं गुजरात इसलिए आया हूं क्योंकि हाल में दलितों पर अत्याचार की कई घटनाएं हुई है। ऐसा लगता है कि गुजरात में संविधान के प्रावधान लागू नहीं होते। नागरिकों को भेदभाव से बचाने वाले संविधान के अनुच्छेद 15 को गुजरात सरकार ने हटा दिया है।’’