Bihar Assembly Elections 2020

बिहार विधानसभा चुनाव में हार के बाद महागठबंधन में आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है। राजद की ओर से पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को घेरने के बाद कांग्रेस की ओर से भी पलटवार किया गया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैलियों ने इस बार के चुनाव में काफी असर दिखाया है। शुरुआती रुझान अगर नतीजों में बदल जाते हैं तो बिहार को लेकर अधिकांश एग्जिट पोल एक बार फिर गलत साबित होंगे।

मौजूदा रुझानों के मुताबिक एनडीए ने 129 सीटों पर बढ़त बना ली है जबकि महागठबंधन अब पिछड़कर 96 सीटों पर पहुंच गया है। लोजपा 7 सीटों पर जबकि अन्य दलों के प्रत्याशी 11 सीटों पर आगे चल रहे हैं। 

बिहार विधानसभा चुनाव के लिए मतों की गिनती शुरू हो चुकी है। कुछ घंटों में यह तय हो जाएगा जीत का ताज किसके सिर पर होगा।

बिहार विधानसभा चुनाव के लिए वोटों की गिनती होने से पहले भारतीय जनता पार्टी नेत्री के अधिवक्ता पति की दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी गई। 

शनिवार को पूर्णिया के धमदाहा में राजद नेता बिट्टू सिंह के भाई बेनी सिंह की हथियारबंद बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी। बदमाशों ने बेनी सिंह पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसाईं। 

बिहार के पूर्णिया में मतदान के दौरान वोटरों की सुरक्षबलों से झड़प हो गई। यहां पर पुलिस को लाठियां चलानी पड़ीं और सुरक्षाबलों ने फायरिंग भी की, जिससे लोगों में दहशत फैल गई। 

बिहार में तीसरे चरण के चुनाव प्रचार के आखिरी दिन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आखिरी चुनाव के एलान पर सियासी घमासान छिड़ गया है। राजद और कांग्रेस नेताओं का कहना है कि इस एलान से साफ है कि नीतीश कुमार थक चुके हैं

राहुल गांधी ने मंगलवार को किशनगंज में जनसभा को संबोधित करते हुए नीतीश और मोदी पर निशाना साधा और कहा कि दोनों ने मिलकर बिहार को लूटा है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज देश में एक तरफ लोकतंत्र के लिए पूर्ण रूप से समर्पित, एनडीए का गठबंधन है। वहीं दूसरी तरफ अपने निहित स्वार्थ को समर्पित पारिवारिक गठबंधन हैं। बिहार ने पूरे विश्व को लोकतंत्र का पाठ पढ़ाया है।