bihar flood

बाढ़ के चलते हजारों-लाखों लोग प्रभावित हुए हैं। लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि वहां के लोग इस विपदा के चलते अपनी खुशियां कम नहीं होने देना चाहते हैं। इस बीच मुजफ्फरपुर के सकरा इलाके में एक अनोखी शादी देखने को मिली है।

मौसम विभाग ने दक्षिण भारत के कुछ राज्यों में भारी बारिश होने का अनुमान जताया है। विभाग की मानें तो आज यानी शुक्रवार को तमिलनाडु, केरल, पुडुचेरी और कर्नाटक में भारी बारिश देखने को मिल सकती है।

बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में बांध टूटने से तिरहुत नहर का पानी लोगों के लिए मुसीबत का सबब बन गया। यहां दो प्रखंड मुरौल और सकरा के सौ से अधिक गांव टापू में तब्दील हो गए।

मुजफ्फरपुर के सिकंदरपुर में बूढ़ी गंडक नदी प्रलय ला सकती है। 33 साल में ये पहली बार हुआ है कि नदी खतरे के निशाने के इतने ऊपर आ गयी हो।

बिहार की नीतीश सरकार ने बाढ़ प्रभावितों को बड़ी राहत देने का फैसला लिया है। सरकार ने बाढ़ प्रभावित परिवारों को 6 हजार रुपये की आर्थिक मदद देने का एलान किया।

बिहार में बारिश के कहर के चलते समस्तीपुर दरभंगा रेल रूट पर ट्रेनों की आवाजाही बंद करने का फैसला लिया गया है। कई ट्रेनों के रूट को डायवर्ट भी किया गया है।

मच्छरों को मारने के लिए 24 टीमें प्रभावित क्षेत्रों में 'टेंफोस' का छिड़काव कर रही है। लेकिन अभी ये संख्या बढ़ सकती है क्योंकि प्रदेश के करीब सभी जिलों में जलजमाव से खतरनाक मच्छर उपज रहे हैं।

पुनपुन के निकट दरधा नदी में पाटलिपुत्रा के सांसद व पूर्व केंद्रीय मंत्री रामकृपाल यादव डूबते-डूबते बचे। जिस टायर वाली 'जुगाड़ नाव' पर सवार हो रहे थे, वह नाव पलट गई। इसके बाद वे पानी में छपाक से गिर पड़े।

नीतीश सरकार की ओर से प्रत्यक्ष लाभ स्थानांतरण (डीबीटी) के जरिये सूबे के करीब साढ़े तीन लाख परिवारों के खातों में 6-6 हजार रुपये की राशि ट्रांसफर की जा रही है।

पटना: जन अधिकार पार्टी के संरक्षक और सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव ने यहां सोमवार को कहा कि बिहार में बाढ़ प्राकृतिक नहीं, ‘राजनीतिक आपदा’ है। बाढ़ अरबों-खरबों रुपये लूटने का जरिया बन गई है। उन्होंने कहा कि बाढ़ में राहत, बचाव और पुनर्वास के नाम पर नेता, अधिकारी और ठेकेदार को लूटने का मौका …