brazil

शोधकर्ताओं का कहना है कि इस वजह से गर्भवती महिलाओं को मेंटल हेल्थ से जुड़ी परेशानियों का भी सामना करना पड़ता है। इन सभी वजहों से अजन्मे बच्चे और नवजात की सेहत पर असर पड़ता है। 

सरकार ने चेतावनी दी है कि जरूरत पड़ने पर लॉकडाउन लगाया जा सकता है। मुंबई, पुणे, नागपुर जैसे बड़े शहरों में कोरोना के बढ़ते मामलों से संक्रमण की नई लहर का अंदेशा बन गया है। हालाँकि अभी स्थिति बहुत खराब नहीं हुई है लेकिन ये एक चेतावनी जरूर है।

ब्राजील में मिल कोरोना के इस नए स्ट्रेन का P1 का नाम रखा गया है। यह वायरस अमेरिका के मिन्नेसोटा राज्य में पाया गया है। विशेषज्ञों के मुताबिक, यह वायरस सामान्य कोरोना से 50 प्रतिशत अधिक संक्रामक है।

ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर बोलसोनारो ने वैक्सीन के लिए भारत का आभार जताते हुए एक ट्वीट किया है। इस ट्वीट के साथ उन्होंने हनुमान जी की संजीवनी बूटी ले जाते तस्वीर भी शेयर की है। भारत से कोरोना वैक्सीन की बीस लाख डोज मिलने के बाद राष्ट्रपति जेयर बोलसोनारो ने खुशी जाहिर की है।

ब्राजील के सुप्रीम कोर्ट ने गुरूवार को यह फैसला दिया कि कोरोनावायरस का वैक्सीन लगाना सभी के लिए अनिवार्य होगा लेकिन लोगों को यह टीका जबरदस्ती नहीं लगाया जाएगा।

ब्राजील के सैन्टा कैटरीना राज्य में एक दिसंबर की रात राइफल से लैस दो दर्जन से अधिक लुटेरों ने यहां करीब चार बैंकों को लूट लिया। इस बीच लगभग 6 लोगों को बंधक बनाकर भी रखा गया है।

भारत, अमेरिका, जापान, रूस और ब्राजील समेत दुनिया भर के कई बड़े मुल्क इस समय कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहे हैं। वैज्ञानिक दिन- रात कोरोना की वैक्सीन बनाने के काम में जुटे हुए हैं। इन दौरान उन्हें तमाम तरह की चुनौतियों का भी सामना करना पड़ रहा है। लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी है। तमाम बाधाओं को पार करते हुए उन्होंने आआगे भी वैक्सीन की परीक्षण का काम जारी रखने की बात कही है।

ब्राजील में भ्रष्टाचार निरोधक यूनिक की छापेमारी में राष्ट्रपति जेयर बोलसनारो की पार्टी के एक सांसद की अजीबो-गरीब हरकत सामने आई। छापेमारी में खुलासा हुआ कि सांसद चिको रोड्रिग्स अपनी अंडरवियर में रूपए छिपाए हुए है।

रूस ने फैसला किया है कि वह ब्राजील को वैक्सीन की पांच करोड़ डोज की सप्लाई करेगा। रशियन डायरेक्ट इंवेस्टमेंट फंड (RDIF) ने कहा है कि नवंबर में कोविड वैक्सीन Sputnik V की डिलिवरी शुरू हो जाएगी।

धरती पर अतंरिक्ष से जो पत्थर, उल्कापिंड गिरते हैं, उनमें इतना कुछ खास नहीं रहता और न हीं कोई अहम बात रहती, जिसके ऊपर ध्यान दिया जाएं। लेकिन इनमें से कुछ को वैज्ञानिक शोध करने के लिए ले जाते हैं।