bsp supremo mayawati

समाजवादी पार्टी के नेता व पूर्व मंत्री प्रो अभिषेक मिश्र ने बृहस्पतिवार को मायावती की प्रेस कांफ्रेंस के बाद अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि मायावती और बसपा के बारे में पहले जो चर्चा होती रही है उस पर मायावती ने अपनी मुहर लगा दी है।

बसपा सुप्रीमों मायावती की प्रेसवार्ता में बागी विधायकों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की बात कहे जाने के बाद इन सभी बागी विधायकों के सुर बदल गए है। बसपा के बागी विधायकों का कहना है कि उनकी बसपा नेताओं के साथ बैठक होनी है और इसके बाद यह तय होगा कि आगे क्या किया जाना है।

राइनी ने कहा कि बसपा सुप्रीमों मायावती बसपा के प्रत्याशी रामजी गौतम को भाजपा के सहयोग से राज्यसभा भेजने की फिराक में थी, जो हमें स्वीकार नहीं था। उन्होंने कहा कि इस संबंध में बीते मंगलवार को ही बसपा सुप्रीमों से बात हुई थी और हम सभी ने उन्हे अपने फैसलें की जानकारी दे दी थी।

बसपा सुप्रीमों मायावती ने मुनकाद अली से उत्तराखंड प्रभारी का दायित्व वापस लेकर शमसुद्दीन राईनी को सौंप दिया है। इतना ही नहीं बसपा सुप्रीमों ने राईनी को यूपी के पांच मंडलों की जिम्मेदारी भी सौंपी है।

मायावती ने कहा कि कांग्रेस की अशोक गहलोत सरकार को सबक सिखाया जाएगा। अपने 6 विधायकों के लिए व्हिप जारी करते हुए मायावती ने कहा कि सभी विधायक कांग्रेस सरकार के खिलाफ वोट करेंगे।

लालजी टंडन बसपा सुप्रीमो मायावती के मुंहबोले भाई थे। चौक की पुरानी गलियों में मायावती बतौर मुख्यमंत्री दो बार टंडन को राखी बांधने उनके घर गईं। 22 अगस्त 2002 को मुख्यमंत्री रहते हुए मायावती ने बीजेपी नेता लालजी टंडन को राखी बांधी थी।

मायावती ने रविवार को ट्विट करके कहा है कि 'जैसा कि विदित है कि बीजेपी-शासित राज्यों में भी प्रवासी मजदूरों की लगातार हो रही घोर उपेक्षा आदि के कारण काफी श्रमिकों के परिवारों को आये दिन दुर्घटना का भी शिकार होना पड़ रहा है, जिसमें अभी तक इनकी काफी दर्दनाक मौतें भी हो चुकी हैं, जो अति-दुखद हैं।

मुख्यमंत्री के दिशा-निर्देश पर सरकारी अधिकारियों ने उन प्रवासी श्रमिकों की सुरक्षा व खाने-पीने की उचित व्यवस्था की होती तो वे लोग चाय पीने दुकान पर क्यों रुकतेे और उनकी क्यों मौत होती ? बसपा सुप्रीमों ने मुख्यमंत्री से मांग की है कि जिन अधिकारियों ने अपनी ड्यूटी सहीं नहीं निभाई है उनके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।

इस लड़ाई में सूबे की पूर्व मुख्यमंत्री और बसपा अध्यक्ष मायावती ने अपने विधायकों से मुख्यमंत्री राहत कोष में एक-एक करोड़ रुपये कोरोना महामारी से लड़ने के लिए देने का आह्वान किया था। पार्टी विधायकों ने अपने फंड से मुख्यमंत्री कोष में ये पैसे भेज दिए हैं।

मेरा पत्रकार मित्रों से निवेदन है कि जो चैप्टर क्लोज हो गया है उसका नाम नहीं लें । मायावती निश्चित रूप से खत्म है । दरअसल, प्रदेश के दो जनपदों में कमिश्नरी लागू होने पर मायावती ने ट्वीट कर निशाना साधा था ।