bundelkhand

प्राकृतिक तौर पर सूखा हर साल पड़ने के कारण बुंदेलखंड में पलायन दर देश के दूसरे हिस्सों से काफी ज्यादा है। यहां से हर साल लाखों गांव वाले बड़े शहरों में कमाने के लिए चले जाते हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनपद झांसी के ग्राम मुराटा तहसील मोंठ में बुन्देलखण्ड क्षेत्र के झाँसी, ललितपुर व महोबा जनपदो की 12 ग्रामीण पाइप पेयजल परियोजनाओं 2185 रुपये करोड़ का भूमि पूजन करते हुये शुभारम्भ किया।

यूपी में बारिश को लेकर मौसम विभाग का अनुमान है कि, पश्चिमी यूपी और पूर्वांचल के कुछ जिलों को छोड़कर ज्यादातर इलाकों में शाम तक बारिश जारी रह सकती है।

जनपद में हिस्ट्रीशीटर को चिन्हित करते हुये अभियान चलाकर कार्यवाही की जाये। अवैध खनन के खिलाफ कारोबारियों को चिन्हित करते हुये कार्यवाही के आदेश।

कोरोना के कारण बुन्देलखण्ड में उत्पन्न परिस्थिति के बीच में एक राहत भरी खबर आ रही है, कि इस बार बुन्देलखण्ड में बडे पैमाने पर खरीफ की फसल बोने की तैयारी में है।

पानी पर किसी कवि की यह रचना बुंदेलखंड के जिला हमीरपुर के गौरवशाली इतिहास का बोध कराती है। लेकिन आज जब हम बुंदेलखंड के लोगों की जीवनचर्या....

झांसी के आस-पास पिछले एक सप्ताह में तीन बड़े टिड्डी दल का आगमन हुआ, जिसने बडे पैमाने पर किसानों के द्वारा लगायी गई जायद की फसल पर धावा बोलकर बर्बाद कर दी।

हंसारी औरा दुनारा ट्रांसमिशन सबस्टेशनों के बीच लोड बंटने से इस भीषण गर्मी में भी ओवर लोडिंग की समस्या का सामना नहीं करना पड़ रहा है।

बुंदेलखंड के किसानों का कहना है कि अभी तक उनकी पीड़ा को समझने कोई नहीं आया है। आगे क्या होगा अगले सीजन की बुआई कैसे करेंगे। घर परिवार को कैसे पालेंगे यह समस्या गहराती जा रही है।

मंदाकिनी, बागैन, केन, वेतवा, धसान, चम्बल और यमुना जैसी 7 नदियों वाला बुंदेलखंड आज भी प्यासा है। कोई भी सरकार नहीं बुझा पाई बुंदेलखंड की प्यास।