business

किसी भी कंपनी में काम करने वाली कर्मचारी की सैलरी कई हिस्सों में बंटी होती है जैसे बेसिक सैलरी, ट्रैवल अलाउंस, स्पेशल अलाउंस वगैरह। पीएफ  में हर महीने कर्मचारी की बेसिक सैलरी से 12% पैसा काटकर पीएफ के खाते में डाल दिया जाता है।

कोरोना संकट के कारण करोड़ों लोग लॉकडाउन में हैं। कल-कारखाने बंद पड़े हैं। अर्थव्यवस्था चौपट हुई जा रही है। लेकिन इस संकट और जबर्दस्त बंदी के बावजूद लोगों को खाना और दवाइयां तो चाहिए ही।

कोरोना के बढ़ते संक्रमण की वजह से लगभग पूरी दुनिया में लॉकडाउन (पूर्ण बंदी) जैसी स्थिति पैदा हो गई है। इस महामारी ने अब तक 13 हजार से भी ज्यादा जाने ले ली हैं और वैश्विक अर्थव्यवस्था को पूरी तरह बर्बाद कर दिया है। ऐसे में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि इस वायरस की वजह से उनके कारोबार का नुकसान हो रहा है जिससे उन्हें दर्द महसूस हो रहा है।

चीन में फैला कोरोना वायरस दुनिया के बहुत से देशों में अपना पैर पसार रहा है। कई हजार लोगों की जान इस वायरस की वजह से जा चुकी है।

पीएम मोदी और डोनाल्ड ट्रंप की दोस्ती काफी अच्छी है। दोनों देश यही चाहते हैं कि दोनों में रिश्ते और भी मजबूत हो जाए। और तो और अमेरिका और भारत के बीच मजबूत व्यापारिक रिश्ते हैं।

इंसान अगर आरो का पानी पिए, महलो में हर सुख सुविधा के साथ रहे तो की आश्चर्य की बात नहीं होती, लेकिन ये सारी सुविधाएं अगर जानवरों को मिले तो इसमें आश्चर्य जरूर होगा। पूना में भाग्यलक्ष्मी नाम से चल रही डेयरी में रहने वाली गायों को कुछ सी तरह की सुविधाएं दी जाती है।

समाधान में लगने वाला समय घटकर एक-चौथाई हुआ अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों के जोखिम संसाधन पूंजी अनुपात (सीआरएआर) में सुधार हुआ : गैर निष्पादक संसाधन (एनपीए) अनुपात 9.3 प्रतिशत पर नियंत्रित व्यक्तिगत ऋण में लगातार तथा जोरदार वृद्धि दर्ज की गई एनबीएफसी के लिए सीआरएआर सितम्बर, 2019 में 19.5 प्रतिशत स्थिर रहा, जबकि सांविधिक लक्ष्य 15 …

मुंबई। पिछले दिनों हमारी मुलाकात हुई युवा उद्यमी दिवेज मेहता के साथ। दिवेज मेहता टेर्गस वर्क्स प्राइवेट लिमिटेड के संस्थापक हैं और इनमेट ब्रांड के उत्कृष्ट गुणवत्ता वाले जूते चप्पलों का निर्माण करते हैं। लेकिन इसमें वो नया क्या करते हैं ? आपको जानकर आश्चर्य होगा कि उनके इनमेट ब्रांड के जूते चप्पलों की मैन्यूफैक्चरिंग …

मुंबई, बम्बई, बॉम्बे : ये नाम सुनते ही हमारे दिमाग में सिनेमा, लम्बी लम्बी इमारते, स्टॉक एक्सचेंज, भीड़भाड़ सब का सब एक साथ दिखने लग जाता हे और अगर हम में कुछ लोग मुंबई गये होंगे तो वहा की लाइफ लाइन कही जाने वाली लोकल ट्रैन भी याद आ जाती हे। इन सब के साथ …

आज जबकि देश भर में उद्यमिता के विषय में तरह तरह से बातें हो रही हैं। सरकार इनको प्रोत्साहित करने में जुटी हुई है। कैसे उद्यमिता के लिए माहौल को सुलभ किया जाय। ज्यादा से ज्यादा स्टार्टअप कैसे स्थापित हों। लघु एवं मध्यम उद्यम कैसे आगे कैसे बढ़ें। इन सब बातों पर चर्चा हो रही …