candidates

दिल्ली में फरवरी में विधानसभा चुनाव होने हैं। इस चुनाव में जीत के लिए सभी राजनीतिक पार्टियों ने पूरा जोर लगा दिया है। इस बीच विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने प्रत्याशियों की पहली सूची जारी कर दी है।

दिल्ली में फरवरी में विधानसभा चुनाव होने हैं। इस चुनाव में जीत के लिए सभी राजनीतिक पार्टियों ने पूरा जोर लगा दिया है। इस बीच विधानसभा चुनाव के लिए आम आदमी पार्टी (आप) ने प्रत्याशियों की सूची जारी कर दी है।

झारखंड इलेक्शन वॉच और एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफार्म्स ने झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 में झारखंड मुक्ति मोर्चा के 30, भारतीय जनता पार्टी के 25, कांग्रेस के 16, झारखंड विकास मोर्चा (प्रजातांत्रिक), आजसू के दो, निर्दलीय दो, कम्यूनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (माले)(लिबरेशन), राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी एक, राष्ट्रीय जनता दल एक कुल 81 नवनिर्वाचित विधायकों के शपथपत्रों का विश्लेषण किया।

झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 के पहले चरण में उतरने वाले14 फीसदी प्रत्‍याशी है। जिसपर 26 उम्‍मीदवारों के खिलाफ गंभीर अपराधों के मुकदमे  दर्ज हैं। इनमें हत्‍या,  हत्‍या का प्रयास, धमकी देना और उगाही जैसे गंभीर अपराध इनके नाम में शामिल हैं।

उत्तर प्रदेश में विधानसभा की 11 सीटों पर होने वाले उपचुनाव के लिए हुए नामाकंन के बाद मंगलवार को आखिरी दिन घोसी के समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी सुधाकर सिंह का पर्चा खारिज कर दिया गया है। हालांकि सुधाकर सिंह ने निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर अपना पर्चा भर दिया हैं।

राजनीति के दुनिया में कदम रख चुके आचार्य प्रमोद कृष्णम का पहचान एक संत के रूप में है। परन्तु उनका सांस्कारिक और आर्थिक पक्ष में भी अच्छा खासा दखल है। पहले भी संभल से लोकसभा चुनाव लड़ चुके आचार्य प्रमोद कृष्णम का अखिलेश सरकार में भी अच्छा खासा रसूख था। वह कांग्रेसी नेताओ के साथ ही मुलायम परिवार के काफी करीबी रहे है। अखिलेश सरकार में 2014 के मुज़्ज़फरनगर दंगे में बनी भाई चारा कमेटी की अध्यक्षता प्रमोद कृष्णम ने किया था। इस बार वह दुबारा कांग्रेस के टिकट पर लखनऊ संसदीय सीट से किस्मत आजमा रहे है।

कल्कि पीठाधीश्वर एवं लखनऊ से कांग्रेस उम्मीदवार आचार्य प्रमोद कृष्णम ने गुरुवार को साधु-संतों की मौजूदगी में नामांकन किया। आचार्य प्रमोद कृष्णम् ने सबसे पहले हनुमान सेतु व मनकामेश्वर मंदिर पहुंचकर मत्था टेका। इसके बाद नामांकन से पूर्व सलेमपुर हाउस में आयोजित सभा में पहुंचे। उनके नामांकन जुलूस में कम्प्यूटर बाबा के साथ कई साधु-संत पहुंचे हैं।

राजस्थान में लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण के लिये मंगलवार को 43 और उम्मीदवारों ने नामांकन पत्र दाखिल किये।निर्वाचन विभाग के सूत्रों ने बताया कि मंगलवार को 12 लोकसभा क्षेत्र में 43 उम्मीदवारों ने 54 नामांकन पत्र दाखिल किये। 

केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह के खिलाफ लखनऊ संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस स्थानीय उम्मीदवार उतारने के मूड में है। पार्टी हाईकमान से कांग्रेस के एक प्रदेश स्तर के नेता को चुनाव तैयारी करने का संकेत भी मिल चुका है, लेकिन अभी टिकट घोषित नहीं हुआ है।

आदिवासी बहुल कंधमाल लोकसभा सीट पर बीजद, भाजपा और कांग्रेस के बीच त्रिकोणीय मुकाबला होने जा रहा है। यह क्षेत्र 2008 में विश्व हिंदू परिषद के एक नेता की हत्या के बाद भड़के दंगों की वजह से सुर्खियों में आया था।