CHILD

बच्चे एक बार फिर से पढ़ाई में जुटने वाले हैं। अगर बच्चा पढाई से दूर भागता है तो घर में मौजूद वास्तु दोष इसका कारण हो सकता है। आसपास मौजूद नकारात्मक ऊर्जा भी बच्चों को एकाग्रता से दूर ले जा सकती है।

यूपी के जनपद कासगंज में एक दिल दहलाने वाली घटना सामने आई है। यहां मासूम बच्चे के सौतेले पिता ने शरारत करने पर उसकी पीट -पीट हत्या कर दी। मासूम बच्चे को ज़मीन पर पटक कर उसके पेट पर खड़ा हो गया। जिससे बच्चे की मौके पर मौत हो गईं।

बच्चों के कमरे के वास्तु का भी ध्यान रखना चाहिए। बच्चों के कमरे की सजावट उनके अनुकूल होना जरूरी है, तभी वे निरोगी रहेंगे। बच्चों के कमरे में रोशनी और प्राकृतिक उजाले का होना बहुत जरूरी है।

छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले में शक के चलते बच्चा चोर का आरोप एक भिखारी पर लगाया। इस शक के चलते गांव के एक परिजन पर भिखारी की हत्या करने के आरोप में पुलिस ने एक नाबालिग समेत तीन लोगों को ​गिरफ्तार किया है।

केंद्र सरकार से लेकर प्रदेश सरकार तक आम जनमानस को स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए नित नए अस्पताल और मेडिकल कालेज खोल रही है। उसी कड़ी में बहराइच में भी 100 बेड का नया महिला अस्पताल बन कर तैयार हो गया है।

उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद में शनिवार को एक गांव में पांच साल का बच्चा खेत में खुले पड़े बोरवेल में गिर गया। घटना की जानकारी मिलने पर प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे। बच्चे को निकालने के प्रयास शुरू कर दिए गए हैं।

उत्तर प्रदेश के श्रीवस्ती में अपने ससुराल वालों से तंग आकर विवाहिता ने अपनी मासूम बेटी और बेटे के साथ नदी छलांग लगाकर आत्महत्या करने की कोशिश की। महिला को राप्ती नदीं में छलांग लगाते देख ग्रामीण मौक पहुंचे और उसे बचाने की कोशिश की।

जयपुर: एक रिसर्च में बात आई है कि 33 साल की उम्र में महिलाएं अपनी मां की तरह लगती हैं। उनका विद्रोही स्वभाव खत्म हो जाता है और वह अपनी मां के व्यवहार का अनुकरण करने लगती हैं। वहीं, पुरुष इसके एक साल बाद यानी 34वें साल में अपने पिता जैसे होने लगते हैं। रिसर्च में …

जयपुर: कोई लौटा दे मेरे बीते हुए दिन, बीते हुए दिन मेरे प्यार पलछीन, इसी तरह जगजीत सिंह की गजल- ये दौलत भी ले लो, ये शोहरत भी ले लो, भले छीन लो मुझसे मेरी जवानी, मगर मुझको लौटा दो बचपन का सावन, वो कागज़ की कश्ती, वो बारिश का पानी। जी हां ! इन …

जयपुर: कोई लौटा दे मेरे बीते हुए दिन, बीते हुए दिन मेरे प्यार पलछीन, इसी तरह जगजीत सिंह की गजल- ये दौलत भी ले लो, ये शोहरत भी ले लो, भले छीन लो मुझसे मेरी जवानी, मगर मुझको लौटा दो बचपन का सावन, वो कागज़ की कश्ती, वो बारिश का पानी। जी हां ! इन …