CHILD

कहते हैं प्रतिभा किसी की मोहताज नहीं होती। वहीं आज के सोशल मीडिया के जमाने में कोई भी व्यक्ति अपने टैलेंट को दर्शाने के लिए किसी मंच के लिए मजबूर नहीं है। ऐसे ही एक गांव के टैलेंटेड बच्चे का शानदार डांस वीडियो इंटरनेट पर तेजी से वायरल हो रहा है। इस बच्चे के डांस पर बॉलीवुड के बड़े -बड़े कलाकार फ़िदा हो गए

ज्यादातर बच्चे स्कूल जाने के नाम से कतराते हैं पैरेंट्स उनके रोज़ के ना-नुकुर से परेशान होते हैं। कई बार तो वे समझ ही नहीं पाते कि बच्चा ऐसा व्यवहार क्यों कर रहा है। बच्चे के मन में क्या चल रहा है ये जानने के लिए कुछ बातों समझनी जरूरी हैं।  कुछ ऐसी बातें, जो शायद बच्चे की ना का कारण हो।

पंजाब के पठानकोट का एक मामला सामने आया है। पठानकोट में सात साल के मासूम को अचानक से सांस लेने में परेशानी हुई और उसकी मौत हो गई। देश में लॉकडाउन की वजह से सारी व्यवस्थाएं अस्त-व्यस्त है।

राजस्थान के भरतपुर में चौंका देने वाला अमानवीय मामला सामने आया है। यहां आरोप है कि भरतपुर के सरकारी अस्पताल में एक गर्भवती महिला को इसलिए नहीं भर्ती किया गया कि वो मुस्लिम है। फिर गर्भवती को यहां से दूसरे अस्पताल में ले गए तो रास्ते में प्रसव हो गया और नवजात की मौत हो गई। इस मामले की वजह से यह सरकारी अस्पताल जांच के घेरे में है।

भारत में कोरोना वायरस का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है। देश में अभी तक 903 लोग कोरोना की चपेट में आ चुके हैं। जबकि 21 लोगों की मौत हो चुकी है। ये आंकड़ा दिनों दिन बढ़ता ही जा रहा है।

हर 4 साल पर साल में 1 दिन बढ़ जाता है। जिसे लीप ईयर कहते हैं।  हर चौथे साल आता है। फरवरी जो आमतौर पर 28 दिन की होती है, उसमें लीप ईयर वाले साल में 29 दिन (29 days in February) होते हैं। जब ऐसा होता है, उस साल को लीप ईयर और इस दिन (29 फरवरी) को लीप डे कहते हैं।

वर्क फ्रॉम होम होम यानी घर बैठे नौकरी करना।दुनिया में कुछ काम ऐसे होते हैं जिन्हे घर बैठे किया जा सकता है। दुनिया में कहीं भी हों, इंटरनेट और वाईफाई की सहायता से इन कामों को बखूबी कर सकती हैं। इस से काम देने वाले और काम करने वाले दोनों को फायदा होता है।

:बच्चे के स्वभाव का अंदाजा लगाना पैरेंट्स के लिए भी मुश्किल हो जाता है, लेकिन उनके पसंदीदा रंग से उनकी पर्सनालिटी के बारे में लगा सकते है कि कब बच्चा खुश होते हैं तो कब दुखी। बच्चों का फेवरेट कलर उनके स्वभाव से जुड़े कई राज खोलता है।

बुधवार को एक महिला यात्री ने चलती ट्रेन में बच्चे को जन्म दिया। ट्रेन नंबर 15956 ब्रह्मपुत्र मेल में टीटीई की समझदारी से एक महिला यात्री ने चलती ट्रेन में बच्चे को जन्म दिया। नई-दिल्ली से डिब्रूगढ़ जा रही गाड़ी सं 15956 ब्रम्हपुत्र मेल में डयूटी पर कार्यरत टीटीई मनोज कुमार