children

लॉकडाउन के दौरान श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में तीन दर्जन बच्चों ने जन्म लिया। मजदूरों ने इस लम्हे को यादगार बनाने के लिए अपने बच्चों के अजब –गजब नाम रखने शुरू कर दिए हैं। ऐसे ही एक यात्रा के दौरान रीना नाम की एक महिला ने बेटे को जन्म दिया।

कोरोना संक्रमण काल में बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिये मां का दूध ही सर्वोपरि है। इस दौरान डिब्बा बंद दूध या कृत्रिम आहार न दें।

कोरोना वायरस के चलते दुनिया भर के बच्चों के लिए एक बड़ा खतरा पैदा हो गया है। इस वायरस के खिलाफ जंग के तहत कई देशों ने अपने यहां राष्ट्रीय टीकाकरण के कार्यक्रम स्थगित कर दिए हैं।

कुशीनगर के पड़रौना गंभीरिया टोला रामघाट में मंगलवार को झोपड़ी में आग लग गई। घटना के वक्त घर में 5 और 7 साल के दो मासूम भाई-बहन ही थे। दोनों इस आग में जिंदा जल गए।

यूं तो गुरूजी काम करते हैं लेकिन बिना पगार और मानदेय के जब कोई करता है तो बात अनूठी बन जाती है। फक्कड़ी स्वभाव के धनी आदित्य की जिंदगी साइकिल पर कट रही है।

72 साल के बाद भी आजादी के राजस्थान के आदिवासियों की हालत में कोई सुधार नहीं हुआ है। खबरें आती रही हैं कि यहां कुछ परिवार बच्चों को बेच देते हैं या गिरवी रख देते हैं। लेकिन हालात इससे भी कहीं अधिक बदतर हैं।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज यानी 24 जनवरी को दिल्ली में प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार 2020 के 49 बाल विजेताओं के साथ बातचीत की।

माता-पिता का सहयोग बच्चे के पूरे प्रदर्शन में बहुत महत्तवपूर्ण भूमिका निभाता है। अच्छे परिणामों के लिए माता-पिता को इन सभी जानकारियों का अवश्य ही पालन करना चाहिए।ऐसे में पेरेंट्स की जिम्मेदारी है