children

आंख का कैंसर जिसको रेटिनोब्लास्टोमा के नाम से डाॅक्टर जानते हैं। अमूनन यह बीमारी नवजात शिशु से लेकर 5 साल तक के बच्चे में पाई जाती है। डाॅ संजीव गुप्ता ने बताया कि आमतौर पर बच्चों के आंख में होने वाले दर्द को लेकर पैरेंट्स लापरवाही करते हैं और बाद में यह जानलेवा हो जाता है।

बच्चों पर साइबर क्राइम का खतरा मंडराने लगा है। बीते कुछ वक्त में ऐसे गेम्स इंटरनेट पर आ गए हैं, जिनसे उन पर दुष्प्रभाव पड़ रहा है। ऐसे में पैरंट्स और स्कूलों के लिए कुछ सुझाव हैं, जिनके जरिए वे बच्चों को इंटरनेट के इस जाल से बचा सकते हैं।

शहर के मोहल्ला ढपालीपुरवा निवासी सगी बहनों समेत नौ बच्चों ने खेल-खेल में जेट्रोफा का फल खा लिया। हालत बिगड़ने पर बच्चों को चिल्ड्रेन वार्ड में भर्ती कराया गया है। उनका इलाज चल रहा है।

आतंकी हमलों में शहीद जवानों के बच्चों को केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने बड़ी राहत दी है। 10वीं व 12वीं की परीक्षा दे रहे शहीदों के बच्चे अगर चाहें तो अपने शहर में परीक्षा केंद्र में परिवर्तन कर सकते हैं। इसके अलावा, उन्हें परीक्षा का शहर बदलने की भी छूट दी गई है।

बर्लिन। जर्मनी में बच्चे छह साल की उम्र से स्कूल जाना शुरू करते हैं। उससे पहले तक वे किंडरगार्टन जा सकते हैं। 6 से 15 की उम्र तक स्कूल जाना अनिवार्य है। बच्चों को स्कूल न भेजने पर माता पिता या अभिभावकों को सजा हो सकती है। होम स्कूलिंग यानी बिना स्कूल के घर से …

प्रयागराज में चल रहे कुंभ में गणतंत्र दिवस पर जहां शहर के लोगों की भारी भीड़ उमडी़, तो वहीं बच्चों का भी उत्साह देखते बन रहा था। इस मौके पर प्रशासन ने भी सुरक्षा की चाक-चौबंद व्यवस्था की थी।

ओस्लो : पिछले दिनों नॉर्वे की प्रधानमंत्री ने एरना सोल्बर्ग कहा, ‘नॉर्वे को ज्यादा बच्चों की जरूरत है, मुझे नहीं लगता कि किसी को बताने की जरूरत है कि यह कैसे होगा।’ वास्तव में यह देश की एक बड़ी चिंता है। उत्तर यूरोपीय देशों में बहुत कम बच्चे पैदा हो रहे हैं। यह देश लंबे …

जयपुर:स्वस्थ बच्चों की आंतों में पाए जाने वाले जीवाणु (बैक्टीरिया) उनको खाने से होने वाली एलर्जी से बचा सकते हैं। यह बात एक रिसर्च में सामने आई है। शिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो, आरगॉन नेशनल लेबोरेटरी और इटली स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ नेपल्स फेडेरिको-2 के शोधकर्ताओं ने हाल ही में किए गए एक …

नई दिल्ली। घर में हमेशा खाने-पीने की ऐसी चीज़ें रखें जो स्वादिष्ट होने के साथ-साथ सेहतमंद भी हो। जंक फ़ूड कम से कम रखें. जब घर में जंक फ़ूड होगा ही नहीं तो बच्चे उनकी ओर कम ही आकर्षित होंग। बच्चे को पूरे परिवार के साथ डाइनिंग टेबल पर खाना खाने की आदत डलवाएं। बच्चा …