chinmayanand case

स्वामी चिन्मयानंद पर यौन शोषण का आरोप लगाने वाली लाॅ कालेज की छात्रा ने सुप्रीम कोर्ट से इस केस को लखनऊ से ट्रांसफर करने की अपील की है। इस संबंध में पीड़िता ने सुप्रीम कोर्ट में में एक अर्जी दाखिल की है।

लखनऊ: बलात्कार के आरोपी व पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद को इलाहाबाद हाईकोर्ट से मिली जमानत को पीड़िता ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दे दी है। पीड़िता की याचिका पर सुनवाई के लिये सुप्रीम कोर्ट भी तैयार हो गया है। अब पीड़िता की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सोमवार को सुनवाई होगी। चार फरवरी को …

चिन्मयानंद केस में स्पेशल इंवेस्टिगेशन टीम (एसआईटी) ने अपनी चार्जशीट दाखिल कर दी है। पूर्व गृहमंत्री चिन्मयानंद पर लगे यौन उत्पीड़न आरोप और उनसे फिरौती मांगने के दोनों मामले में चार्जशीट दाखिल की गई है।

चिन्मयानंद केस की 2 माह में चार्जशीट पूरी तैयार की गई है। दो मुकदमे जिसमें से एक रंगदारी मांगने का तो दूसरा अपहरण और धमकी देने का। इन दोनों मुकदमों के दर्ज होने में दो दिन का अंतर रहा।

प्रयागराज। स्वामी चिन्मयानन्द पर एलएलएम छात्रा से दुराचार व पीड़िता पर ब्लैकमेल के आरोपों की जांच कर रही एसआईटी ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में प्रगति रिपोर्ट सीलबंद लिफाफे में पेश कर दी है। कोर्ट को बताया गया कि आवाज की जांच रिपोर्ट अभी नहीं मिली है। फोरेंसिक जांच रिपोर्ट आने के बाद स्थिति स्पष्ट हो सकेगी। …

वही एक अन्य कोर्ट ने स्वामी चिन्मयानंद बलैकमेल की आरोपी रेप पीडिता की जमानत अर्जी पर राज्य सरकार व स्वामी को जवाब दाखिल करने का समय दिया है। अर्जी की सुनवाई 6 नवंबर को होगी। न्यायमूर्ति सिद्धार्थ ने की पीडिता की जमानत अर्जी की सुनवाई ।

पूर्व केंद्रीय गृह राज्य मंत्री स्वामी चिन्मयानंद से पांच करोड़ की रंगदारी मांगने के आरोप में जेल में बंद पीड़ित युवती को शुक्रवार सुबह न्यायालय के आदेश पर एलएलएम में दाखिला कराने के लिए पुलिस सुरक्षा में बरेली कॉलेज ले जाया गया।

उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर मामले में पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद पर आरोप लगाने वाली लड़की को एसआईटी ने गिरफ्तार किया है। लड़की पर चिन्मयानंद से केस के बदले पैसों की मांगने का आरोप है। गिरफ्तारी करने के बाद लड़की को मेडिकल जांच के लिए ले जाया गया है।

प्रयागराज। इलाहाबद उच्च न्यायालय ने पूर्व गृह राज्य मंत्री चिन्मयानन्द पर विधि छात्रा से दुष्कर्म के आरोपों की जांच कर रही एसआईटी की विवेचना पर संतोष जताया है। कोर्ट ने कहा कि जांच सही दिशा में बढ़ रही है। कोर्ट ने पीडि़त छात्रा की ओर से चिन्मयानंद से 5 करोड़ की रंगदारी मांगने के मुकदमे में उसकी गिरफ्तारी पर रोक लगाने का आदेश देने से इंकार कर दिया है साथ ही 164 सीआरपीसी के तहत न्यायिक मजिस्ट्रेट द्वारा दर्ज बयान फिर से कराने या उसमें संशोधन के अनुमति देने से भी इंकार कर दिया है।