cold

मौसम विभाग के मुताबिक पश्चिमी हिमालयी क्षेत्रों से मैदानी इलाकों में चल रही ठंडी हवाओं के कारण उत्तर भारत में पारा और गिर गया है। कश्मीर घाटी में भीषण शीलतलहर पड़ रही है।

किसान मजदूर संघर्ष कमेटी के सुखविंदर सिंह सभरा का कहना है कि तीन कृषि कानून रद्द होने चाहिए, अगर 4 जनवरी को इसका कोई हल नहीं निकलता तो आने वाले दिनों में संघर्ष तेज होगा।

मौसम विभाग के मुताबिक, आने वाले दो से तीन दिनों में शीतलहर और बढ़ेगी। इसके अलावा मौसम विभाग ने राजधानी दिल्ली समेत कई क्षेत्रों में अगले 24 घंटों में पाला का अनुमान जताया है। राजस्थान के माउंट आबू में पारा माइनस डिग्री में चला गया है।

मौसम विभाग ने बताया कि 20 दिसंबर से मौसम की स्थिति में सुधार देखने को मिलेगी। इसके बाद तापमान 2 से 3 डिग्री बढ़ सकता है। दिल्ली में वायु गुणवत्ता सूचकांक को लेकर आईएमडी प्रमुख ने कहा कि AQI मध्यम और खराब श्रेणी के बीच दर्ज हो रहा है, क्योंकि हवा की गति अच्छी है।

मौसम विभाग ने चक्रवाती तूफान बुरेवी के कमजोर पड़ने के बाद कुछ जिलों से रेड अलर्ट वापस ले लिया। इसके अलावा जम्मू कश्मीर में 10 दिसंबर तक मौसम पर असर पड़ सकता है।

मौसम विभाग ने बताया कि बंगाल की खाड़ी के ऊपर कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ जो गहरे कम दबाव के क्षेत्र में तब्दील हो सकता है। इसके साथ ही यह चक्रवाती तूफान में परिवर्तित हो सकता है। इसके कारण तमिलनाडु और दक्षिणी केरल में भारी बारिश होने की संभावना है।

लखनऊ के कान, नाक और गले के स्पेशलिस्ट डॉ. पंकज श्रीवास्तव ने बताया कि नाक और गला हमारे शरीर का एंट्री प्वाइंट है। यहीं से इंफेक्शन इंसान के शरीर में प्रवेश करता है, जिसके कारण व्यक्ति को सर्दी, जुकाम, वायरल फीवर, खांसी, पेट में दर्द जैसे बीमारियां जन्म लेती है। वहीं ठंड के शुरूआती दौर में वायु प्रदूषण का भी प्रकोप जारी रहता है।

मौसम विभाग ने रविवार को जानकारी देते हुए बताया कि बंगाल की खाड़ी के ऊपर कम दबाव का क्षेत्र बनने और इसके एक चक्रवाती तूफान में बदलने की आशंका है। इस तूफान के 25 नवम्बर को तमिलनाडु और पुडुचेरी तटों को पार करने की संभावना है।

प्रदूषण की मार झेल रही राजधानी दिल्ली समेत देश के कई राज्यों में बारिश हुई है। मौसम विभाग ने पश्चिमी विक्षोभ के कारण बारिश होने की बात कही थी। राजस्थान, यूपी, हरियाणा और पंजाब और दिल्ली के आसपास के क्षेत्रों में बारिश हुई है।

15 नवंबर को एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव से बनेगा जिसके कारण पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, उत्तर पूर्वी राजस्थान में 15 और 16 नवंबर को बारिश हो सकती है। उत्तर भारत के कई शहरों में बारिश हो सकती है।