corona infection

दक्षिण अफ्रीका, अफ्रीका महाद्वीप पर करोना के कारण सबसे बुरी तरह प्रभावित देश हैं। इस सप्ताह की शुरूआत में यहां कोरोना संक्रमण के मामलों में तेज़ी दर्ज की गई थी।

तेजी से बढ़ते कोरोना वायरस के बीच इंडियन इंस्‍टीट्यूट ऑफ टेक्‍नोलॉजी (IIT) बॉम्‍बे की एक डराने वाली स्टडी सामने आयी है। IIT बॉम्‍बे ने कोरोना वायरस और मौसम के कनेक्शन पर एक स्टडी की है।

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के ताजा सर्वे में यह बात सामने आई है कि देश की कुल आबादी का एक बड़ा हिस्सा अपने आप ही कोरोना वायरस के संक्रमण से ठीक हो चुका है।

जिले में कोरोना संक्रमण कुपोषित बच्चों पर कहर बनकर टूटने का भयावह खतरा है। इसका प्रमुख कारण है कि कुपोषित बच्चों में रोग प्रति रोधक क्षमता कम होती है। कोरोना, रोग प्रतिरोधक की कमी वालों के लिए मौत का परकाला माना जाता है।

यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने 66 मरीजों पर अध्ययन करने के बाद नतीजा निकाला है कि नमक के पानी से गरारे करने पर संक्रमण के लक्षणों को कम करने में मदद मिलती है। इसके साथ ही ऐसा करने पर भी बीमारी की अवधि को भी घटाया जा सकता है।

हाटस्पॉट क्षेत्रों में सभी घरों को सेनेटाइज किया जाए। 3 मई के पश्चात औद्योगिक इकाइयों को किस प्रकार शुरु किया जाए, इसके लिए एक कार्य योजना तैयार की जाए।

प्रमुख सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश के 9 जनपद कोरोना संक्रमण शून्य हो गये हैं। प्रदेश के 53 जिलों से अब तक 1294 कोरोना पाॅजिटिव के मामले सामने आए हैं, जिसमें से 1134 मामले एक्टिव हैं।

उत्तर प्रदेश सरकार ने कोविड-19 की रोकथाम, उपचार व उससे बचाव के लिये कार्यरत कार्मिकों की कोविड-19 के संक्रमण से मृत्यु की दशा में उनके आश्रितों को सामाजिक सुरक्षा देने के लिये 50 लाख रूपये की एकमुश्त धनराशि दिए जाने की स्वीकृति प्रदान कर दी है।