Corona patient

मेडिकल टीम मोहल्ले में मरीज को लाने गयी। साथ ही मरीज के संपर्क में आने वाले करीबियों को क्वारंटाइन करने की कोशिश में लग गयी। हालाँकि इस दौरान दर्जनों की संख्या में अराजकतत्वों ने मेडिकल टीम पर हमला बोल दिया।

बताते चलें कि शहर के जालौन चौराहे पर संक्रमित लोगों को रखने के लिए क्वारंटाइन सेंटर बनाया गया है। जिसमें करीब एक सैकड़ा से अधिक लोग अभी भी रोके गए हैं। बुधवार की रात सेंटर पर रुके कुछ लोगों ने जिला प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाया है।

आज जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार जिले में आज आठ जो नए कोरोना मरीज मिले हैं , इनमें सात की सैम्पलिंग जिले में तथा एक की सैम्पलिंग प्रयागराज में हुई थी।

कोरोना संकट के बीच आर्थिक तंगी या गरीबी लोगों पर इस कदर हावी हो गयी कि संक्रमित मरीज मौत के बाद भी सुरक्षित नहीं हैं। अस्पताल में मृतक संक्रमित की जेब तक काट ली गयी।

दिल्ली सरकार की ओऱ से कोरोना पेशेंट के लिए बेड़ की उपलब्धता के बारे में दावा किया जाना वास्तविकता से परे है। यहां पर कुछ दिनों में ऐसी कई घटनाएं सामने आई हैं, जहां पर अस्पताल में रिजर्व बेड उपलब्ध ना हो पाने के चलते कई लोगों को जान गंवानी पड़ी।

देश में अब तक कोरोना से संक्रमित 51784 मरीज ठीक हो चुके हैं जबकि इस वायरस से 3720 लोगों की जान जा चुकी है। कोरोना संक्रमित मरीजों की रिकवरी दर 41.39 फीसदी है।

अहमदाबाद के दानलीमडा इलाके बस स्टेशन पर कोरोना वायरस से पीड़ित एक व्यक्ति की लावारिस लाश सड़क पर पड़ी मिली। मृतक के परिवार वालों ने इस घटना के लिए अस्पताल के कर्मचारियों और पुलिस को दोषी ठहराया है।

साइंटिस्ट्स का ऐसा मानना है कि कोरोना वायरस से ठीक हो जाने के बाद भी कुछ दिनों तक शरीर में वायरस रह सकता है। जो सेक्स से दूसरों में फ़ैल सकता है

लखनऊ स्थित केजीएमयू के विभागाध्यक्ष डॉ. सूर्यकांत त्रिपाठी से आज मेरठ सर्किट हाउस में राज्यसभा सांसद कांता कर्दम, विधायक डॉ. सोमेंद्र तोमर, महानगर अध्यक्ष मुकेश सिंघल मिले और अपने संयुक्त सुझाव दिए।

इस घातक बीमारी से निपटने के लिए लखनऊ के KGMU और अब्दुल कलाम टेक्निकल यूनिवर्सिटी ने मिलकर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की बदौलत एक प्रोग्राम तैयार किया है।