Corona vaccine

देशभर में कोरोना वैक्सीनेशन प्रोग्राम की शुरुआत हो चुकी है। वैक्सीनेशन के बाद कुछ लोगों की मौत को लेकर सोशल मीडिया पर कई तरह की अफवाह सामने आई है।

प्रदेश में कोरोना अब तक ख़त्म नहीं हुआ है इसलिए अभी असावधानी बरतने की जरूरत बिलकुल भी नहीं है। यह बात आज राज्य सरकार की तरफ से कही गई।

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें खुद डॉक्टर वैक्सीन लगवाने का दिखावा कर रहे हैं। Newstrack Fact Check Team ने की वायरल वीडियो की पड़ताल।

भारत ने सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा बनाई गयी कोविशील्ड वैक्सीन की खुराकें पूरे दक्षिण एशिया में बांटी हैं। 20 जनवरी को नेपाल, बांग्लादेश, मालदीव और भूटान को मुफ्त कोरोना वैक्सीन की पहली खेप भेजी गयी।

भारत ने पड़ोसी देश बांग्लादेश और नेपाल से दोस्ती निभाते हुए उन्हें कोविड से बचाव के लिए वैक्सीन की 20 लाख और 10 लाख खुराकें भेजीं। महामारी से निपटने के लिए दोनों मित्र देशों को वैक्सीन की ये खुराकें मुफ्त दी गई हैं।

ब्रिटेन के चीफ मेडिकल ऑफिसर क्रिस व्हित्टी और चीफ साइंटिफिक एडवाइजर सर पैट्रिक वैलेंस ने कहा है कि उनको इस बात की चिंता है कि वर्तमान वैक्सीनें साउथ अफ्रीका और ब्राज़ील में सामने आ रहे कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन के खिलाफ काम नहीं कर पाएंगी।

गुरुग्राम में एक महिला हेल्थ वर्कर की कोरोना वैक्सीन लगने के 130 घंटे बाद मौत हो गई। जिसके चलते मृतका के परिवार वालों ने गुरुग्राम के न्यू कालोनी थाने में कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर शिकायत दर्ज कराई है।

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ राम कुंवर ने बताया कि टीकाकरण के प्रथम चरण के अभियान में 16 जनवरी को पहली बार जिले के चार केंद्रों पर टीकाकरण की सफल शुरुआत की गई थी।

सीएमओ ने बताया कि टीकाकरण के बाद वह आधे घंटे तक आब्जर्वेशन रूम में रुके और इसके बाद जनपद भर में चल रहे टीकाकरण का जायजा लेने निकल गए, उन्हें किसी किस्म की कोई परेशानी या दिक्कत नहीं हुई।

लखनऊ: बलरामपुर अस्पताल में कोरोना वैक्सीन के सेकंड फ़ेज में टीकाकरण करती स्वास्थ्यकर्मी