Covid-19 vaccine

इंग्लैंड और वेल्स में साल 2020 में 6 लाख 8 हजार दो लोगों की मौत हुई है। बता दें कि इससे पहले केवल साल 1918 में ही इससे ज्यादा लोगों की मौत हुई थी। साल 1918 में स्पैनिश फ्लू का कहर पूरी दुनिया में देखने को मिला था, जिसमें इंग्लैंड का नाम भी शामिल है।

दिल्ली में राजीव गांधी अस्पताल में वैक्सीन के 22 बॉक्स पहुंचे हैं। जिनमें वैक्सीन के 2 लाख 64 हजार डोज है। राजीव गांधी अस्पताल में ही कोरोना वैक्सीन को स्टोर किया जाएगा। दिल्ली में जो वैक्सीन की खेप आई है, उसका एक हिस्सा करनाल भी जाना है। 

135 करोड़ से ज्यादा आबादी वाले भारत में वैक्सीन कार्यक्रम चलाना कोई आसान काम नहीं है। इसीलिए सरकार ने इसे चरणबद्ध तरीके से शुरू करने का फैसला लिया है। लोगों में जागरूकता फैलाई जा रही है ताकि लोग तरह तरह की अफवाहों से सतर्क रहें। केंद्रीय

CM योगी ने 16 जनवरी, 2021 से राज्य में शुरू हो रहे कोरोना वैक्सीनेशन अभियान के संबंध में जनपदों की व्यवस्थाओं की वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के जरिए समीक्षा की। इसके साथ ही अधिकारियोें को आवश्यक दिशा-निर्देश भी दिए।

कोरोना के खिलाफ बनी सबसे असरदार वैक्सीन में ‘नुक्लेइक एसिड्स’ का इस्तेमाल किया गया है, जिसे मेसेंजर आरएनए या एमआरएनए कहते हैं। एमआरएनए पर आधारित वैक्सीन को फाइजर-बायोएनटेक, मॉडर्ना और क्योरवैक कंपनियों ने डेवलप किया है।

करीब नौ देशों ने भारत से वैक्सीन को लेकर मदद मांगी है। वहीं सूत्रों की मानें तो भारत सरकार कोरोना वैक्सीन के वितरण के मामले में बांग्लादेश, भूटान, नेपाल, श्रीलंका और अफगानिस्तान जैसे पड़ोसी देशों को प्राथमिकता देगी।

अगर आप दिल्ली में रहते हैं, लेकिन आपका असली पता किसी अन्य राज्य का है तो आपको वैक्सीनेशन के लिए किन किन डॉक्यूमेंट की जरूरत होगी, इस बारे में डॉ. सुनीला गर्ग ने जानकारी दी है।

डायरेक्टर डॉ. गुलेरिया ने कहा कि अगर वयस्कों पर वैक्सीन का अच्छा रिजल्ट देखा जाता है तो ही बच्चों को वैक्सीन लगेगी। इसके बाद प्रेग्नेंट औरतों को इसे दिया जाएगा।

यूके में मिले कोरोना के प्रजनन की गति 1.1 से 1.3 के बीच है। जबकि वैज्ञानिकों का मानना था कि इसकी गति 0.6 से 1.0 के नीचे हो सकती है। नया स्ट्रेन सभी उम्र को लोगों को अपनी चपेट में ले रहा है।

कोरोना वैक्सीन को लेकर अभी भी लोगों के मन में कई सवाल है। जैसे कि फ्रंटलाइन वर्कर्स के बाद अन्य लोगों को कब तक वैक्सीन लगाई जाएगी, इसे बाजार से कब खरीदा जा सकेगा और क्या ये दोनों वैक्सीन सभी उम्र के लोगों पर प्रभावी होगी।