crime branch

दिल्ली से एक बड़ी खबर सामने आई है। बताया जा रहा है कि तबलीगी जमात मामले में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच टीम ने मरकज के मुखिया मौलाना साद के 5 करीबियों के पासपोर्ट जब्त कर लिए हैं। उन पर पहले से ही मुकदमा दर्ज है। 

राजधानी दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में स्थित तबलीगी जमात के मुखिया पर शिकंजा कसते हुए क्राइम ब्रांच ने 166 जमातियों के बयान दर्ज किए हैं।

दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने मौलाना साद के जमात वाले सभी बैंक अकाउंट को लेकर बड़ी कार्रवाई की है। बैंक ऑफ इंडिया की (लाल कुआं ब्रांच) को सभी अकाउंट सीज करने को कहा है।

दिल्ली दंगे के मामले में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई), जामिया कोआर्डिनेशन कमेटी (जेसीसी), पिंजरा तोड़ और ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन (एआईएसए) के कई सदस्य पुलिस के निशाने पर हैं

मौलाना साद ने दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच को पत्र लिख कर कहा है कि वह उनके खिलाफ जांच में सहयोग करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि, वो पहले ही क्राइम ब्रांच की ओर से मिले नोटिसों का जवाब देकर इस जांच का हिस्सा बन चुके हैं।

तब्लीगी मरकज मामले में जिन विदेशी नागरिकों की क्वारनटीन की अवधि समाप्त हो चुकी है, उनसे दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने पूछताछ शुरु कर दी है।

देश में कोरोना संक्रमण के मामले बेतहाशा बढ़ाने वाले संगठन तबलीगी जमात पर क्राइम ब्रांच ने शिकंजा कस दिया है। क्राइम ब्रांच के सूत्रों के मुताबिक मरकज में हवाला कनेक्शन के जरिए पैसों का लेनदेन करने की बात सामने आ रही है।

दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में स्थित तब्लीगी जमात के मरकज से कोरोना वायरस के मामले सामने आने के बाद से ही देश में COVID- 19 के केस में काफी तेजी से बढ़ोत्तरी हुई।

मौलाना साद ने क्राइम ब्रांच के नोटिस का जवाब दिया है। मामले के आरोपी और जमात के मुखिया मौलाना साद का कहना है कि वो सेल्फ क्वारनटीन में हैं।

दिल्ली के निजामुद्दीन में हुई तबलीगी जमात और उसके प्रमुख मौलाना पर लगातार कार्यवाही की जा रही है। अब मौलाना मोहम्मद साद क्राइम ब्रांच के निशाने पर है।