demonstration

इप्सेफ ने केंद्र सरकार पर उपेक्षापूर्ण और नकारात्मक रवैया अपनाने का आरोप लगाते हुए आगामी 14 अक्टूबर को देश के सभी जिलों में प्रदर्शन किए जाने का एलान किया है।

पिछले करीब डेढ़ महीने से दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) के खिलाफ के प्रदर्शन जारी है। इस प्रदर्शन में सैकड़ों की तादाद में लोग प्रदर्शन कर रहे हैं और इन्हीं में से एक था चार महीने का बच्चा मोहम्मद जहान।

आज देश के राष्ट्रपिता यानि महात्मा गांधी की पुण्यतिथि है। आज ही के दिन साल 1948 में देश ने महात्मा गांधी के रुप में अपना अनमोल रत्न खो दिया था। नाथूराम गोडसे ने आज ही के दिन महात्मा गांधी को गोली मारकर उनकी हत्या कर दी थी।

दिल्ली के शाहीन बाग में जारी प्रदर्शन का एक वीडियो सामने आया है जिसमें एक शख्स पिस्टल लेकर वहां पहुंचा। उसे  देखकर लोग इधर-उधर भागने लगे। उन्हें ये समझ में नहीं आ रही था कि आखिर हो रहा क्या हो रहा है?

नागरिकता कानून के खिलाफ पिछले शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद हुई हिंसा को देखते हुए इस बार प्रशासन पूरी तरह सतर्क है। आज शुक्रवार को मस्जिदों में जुमे की नमाज़ पढ़ी जाएगी। ऐसे में उत्तर प्रदेश में सख्ती बढ़ाई गई है।

हांगकांग में लोकतंत्र की मांग को लेकर चल रहे प्रदर्शन को दबाने के लिए चीन ने अपनी सेना तैनात कर दी है। यहां पिछले 5 महीने से जारी प्रदर्शन के खिलाफ पहली बार पीपुल्स लिब्रेशन आर्मी के सैनिक सड़कों पर दिखे। सैनिकों ने सड़कों को खाली कराने के लिए मार्च किया।

तीस हजारी कोर्ट में हुई हिंसा के बाद वकील और पुलिस के बीच शुरू हुआ विवाद अभी खत्म नहीं हुआ है। मंगलवार को पुलिस जवानों के द्वारा प्रदर्शन के बाद बुधवार को वकीलों ने दिल्ली में प्रदर्शन किया।

मदरसों के शिक्षक भूखमरी के कगार पर पहुंच चुके हैं। एक तरफ सरकारें शिक्षा पर लाखों करोड़ों खर्च करने की बात करती रहती हैं, तो वहीं सैकड़ों शिक्षकों को पिछले 34 महीने से मानदेय नहीं मिला है। इसकी वजह से उनकी माली हालत बद से बदतर हो गई है और आज वे भुखमरी के कगार पहुंच गए हैं।