depression

जयपुर: डिप्रेशन से दुनिया की आधी से अधिक आबादी परेशान है। यह एक ऐसा डिसऑर्डर है जिसका व्यक्ति कब शिकार हो जाये पता तक नहीं चलता। अवसाद की वजह से न जाने कितने सारे लोग सुसाइड कर लेते हैं। यह एक ऐसी बीमारी है जो किसी भी उम्र में किसी को भी हो सकता है। …

उन लोगों के लिए एक अच्छी खबर है, जिनकी तनाव के कारण नींद पूरी नहीं हो पाती। भारतीय मूल के एक वैज्ञानिक के नेतृत्व में शोधकर्ताओं ने पाया कि गन्ने और अन्य प्राकृतिक उत्पादों में पाए जाने वाला एक सक्रिय तत्व तनाव को खत्म कर नींद बढ़ा देता है।

लखनऊ: बदलती जीवनशैली में हर व्यक्ति की दिनचर्या लगभग बदल गई है। इस कारण लोगों में आए दिन गंभीर हेल्थ प्रॉब्लेम हो रही हैं। कार्यस्थल पर बढ़ता काम का दबाव खासकर यूथ में तनाव की गंभीर समस्या को जन्म दे रहा है। ऑफिस में लंबे समय तक काम करना, नाइट शिफ्ट में काम करना, तंग …

लखनऊ :  डिप्रेशन, तनाव या कहे अवसाद  सुनने में नॉर्मल सी बात लगती है, लेकिन जब उसके शिकार हम होते हैं तो फिर समझ नहीं आता कि हम क्या करें, क्या नहीं करें। इस  बीमारी से  कोई भी अछूता नहीं रह पाता है। बॉलीवुड के कई स्टार डिप्रेशन के शिकार हो चुके हैं। कई ऊबर …

नाबालिग मुनिया के साथ गांव के ही युवक मोहित ने रेप किया था। मुनिया के गर्भवती होने की जानकारी मिलने पर मामला कोर्ट पहुंच गया था। डॉक्टरों की राय के बाद गर्भपात की मांग पर हाईकोर्ट ने एक ऐतिहासिक फैसले में रोक लगा दी थी।

लखनऊ: गुस्से की अग्नि में जलना मनुष्य की आदत में शुमार है। कभी जायज तो कभी नाजायज बात पर गुस्सा आना स्वभाविक होता है। गुस्से के आवेग में इंसान कुछ भी बोल पड़ता है। कभी-कभी गाली भी निकल पड़ती है। ऐसे में मुंह से निकली गालियों को समाज गंदा मानता है और इसे देने वाले …

लखनऊ: मम्मी मुझे खाना दो.. दादी आज शाम आप मेरे साथ गेम खेलोगी न..प्रिया तुम्हें पता है। कल हिस्ट्री वाली मैम ने बिना बताए सरप्राइज टेस्ट लिया था.. पापा आप कहां बिजी रहते हो? मैं कितनी बार कॉल करती हूं, तब जाकर कहीं आप एक बार पिक करते हो.. जाइए मैं आपसे बात नहीं करती। …

वाराणसी:  बीएचयू में हिस्ट्री डिपार्टमेंट की असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. स्वाति पांडेय ने सोमवार को सुसाइड कर लिया। बताया जा रहा है कि शादी टूटने की वजह से वह परेशान थी। गर्ल्स डिग्री कॉलेज के प्रोफेसर किशोरी लाल और सोशल साइंस डिपार्टमेंट के डीन प्रो. मंजीत चतुर्वेदी ने इसकी पुष्टि की है। किशोरी लाल ने बताया कि …

लखनऊः ये जिंदगी रफ्तार से चल पडी़, जाते हुए राहों में, हमसे कहकेे गई, हमारा ये वक्त हमारा, जो एक बार गया तो आए न दोबारा यारों । ये चंद लाइनें आज की दौड़ती-भागती जिंदगी में हर किसी के ऊपर एकदम फिट बैठती हैं। हम काम में इतना मशगूल हो गए कि हमें अपनी ही …