disstrict jounpur

साबरमती के संत के नाम से विख्यात महात्मा गांधी का गहरा नाता शिराजे ए हिन्द के नाम से पहचान रखने वाले जनपद जौनपुर से रहा इसी लिए स्वतंत्रता आन्दोलन के समय उसे गति देने के लिए अनजे जीवन में दो बार जनपद की सरजमीं पर अपने कदम रखे और यहां की आवाम को संबोधित कर अपना संदेश दिया।

प्राचार्य विनय दुबे के द्वारा फर्जी अनुभव प्रमाण पत्र लगाने की जनकारी प्रबन्ध समिति को होते ही विद्यालय प्रबंधक श्रीमती माधुरी तिवारी ने उक्त प्रचार्य की नियुक्ति तत्काल प्रभाव से निरस्त कर सम्बंधित विभाग को सूचित कर दिया है।

पुलिस अधीक्षक ने जनपद जौनपुर के दो सिपाहियों को सेवा से मुक्त कर दिया। इन पर लापरवाही भ्रष्टाचार एवं अनुशासनहीनता का आरोप लगा है। पुलिस अधीक्षक की इस कार्यवाही से विभाग में हड़कंप मचा हुआ है ।

सुक्खीपुर निवासी वादी विश्वनाथ का आरोप है कि नगर पालिका से निकलने वाले टेंडरों में कूट रचना करते हुए लाभ प्राप्त कर ई टेंडरिंग के नाम पर कतिपय पार्टियों को वितरित किए जा रहे हैं। 10 अप्रैल 2018 को आरोपितों ने होर्डिंग से कर वसूली के लिए ई टेंडरिंग के नाम पर टेंडर जारी किया बताया गया कि टेंडर का प्रकाशन ई टेंडरिंग से कराया गया है।