district jounpur

लॉक डाऊन के दौरान लगभग आधा दर्जन अधिवक्ता एवं दीवानी कर्मियों की मौत होने के कारण शोक प्रस्ताव के साथ न्यायिक कार्य नहीं हुआ । लेकिन जिला को कोरोना के चलते अरेंज जोन में होने के कारण न्यायालय को खोले जाने को लेकर सवाल जरूर उठ रहे है।

उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले की शिवांगी सिंह घर में रह कर पेन्टिंग बनाकर लोगों को कोराना से बचने एवं लॉक डाउन में अपने मूल्यवान समय को सार्थक बनाने के लिए अहम संदेश दे रही हैं। जिसमें मोहम्मद हसन पीजी कॉलेज की पूर्व छात्रा आर्टिस्ट शिवांगी सिंह ने कई अद्भुत चित्र बनाए हैं।

गरीबों के पेट भरने का भी काम समाजसेवी संस्थाओं द्वारा लंच पैकेट फल आदि वितरित करते हुए किया जा रहा है। हर स्तर पर भोजन एवं खाद्यान के सडकों सुरक्षित रखने के लिए मास्क सेनेटाईजर आदि का भी विवरण किया जा रहा है ।

संगठन द्वारा प्रति दिन 7 सौ पैकेट बनवा कर मलीन बस्तियों में भोजन वितरित करने का काम किया जा रहा है। सबसे अहम बात है कि संगठन के लोग गरीबों को भोजन देते समय फोटो ग्राफी से परहेज कर लिए हैं।

परंपरागत भारतीय संस्कृति के संरक्षण और संवर्धन का पैरोकार बनने वाली पार्टी से मंत्री बनने के बावजूद उनका मंतब्य शिक्षा का बाजार बनाना है जिसमें बड़े पूंजीपति मंडी सजायेंगे और शिक्षक मजदूरों की भांति अपना ज्ञान बेचने के लिए चौराहों पर खड़े होंगे।

अब तक जिले में चार व्यक्ति कोरोना वायरस (कोविड 19) से ग्रसित पाये गये हैं जिसमें दो तब्लीगी जमात के हैं जिनका नाम इस्माइल बंगला देश, तथा यासीन अंसारी रांची झारखंड, और एक असहद सऊदी अरब से आया था जो ठीक हो कर घर जा चुका है।

स्कूल में हम लोग 25 रूपये से डेढ़ सौ रूपये प्रतिमाह की फीस लेकर विद्यालय चलाते हैं, जिसमें से कुछ बच्चों की शुल्क बाकी ही रहता है। फिर भी हम लोग अपना जीवन यापन करने के लिए पढ़े लिखे व्यक्तियों को स्कूल में अध्यापक नियुक्त कर उन्हें तीन से पॉच हजार रुपए प्रतिमाह पारिश्रमिक देते हैं।

जिला प्रशासन ने लॉकडाउन का पालन कराने के लिए और भी शक्ति करते हुए जनता से अपील किया कि वह सोशल डिस्टेन्सिंग बनाये रखें।

पूर्वांचल की इस शक्ति पीठ मां शीतला देवी चौकियां धाम में नवरात्रि के अलावा प्रत्येक शुक्रवार को अपार श्रद्धालुओं की भीड़ मां के दर्शन पूजन के लिए इकट्ठा होती है। लेकिन अब मां के भक्त जनों को रोकने के लिए चौकियां धाम के पन्डा समाज ने कोरोना से बचने के लिए निर्णय लेते हुए मन्दिर के मुख्य द्वार को ही बन्द कर दिया है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने कहा कि प्रदेश की सरकार इस दैवी आपदा में किसानों के साथ खड़ी है। ओलावृष्टि से प्रभावित किसानों को एक सप्ताह के अंदर राहत सहायता राशि प्रदान कर दिया जायेगा।