divyang

अपने इस प्रयोग की सफलता से उत्साहित सार्थक ने कहा कि इस जादूई दस्ताने को बनाने में मात्र 300 रुपये खर्च हुए है। उसका कहना है कि वह शीघ्र ही इसके पेटेंट के लिए आवेदन करेगा। इसके बाद इस दस्ताने को बाजार में लाने पर काम करेगा।

आकर्षक एवं राष्ट्रीय समारोह के फॉर्मल ड्रेस में तैयार हुए इस 18 वर्षीय किशोर ने भी चेयर में बैठकर ध्वज की रस्सी पकड़ी और उसे खींचकर जिलाधिकारी कैंप कार्यालय पर झंडा फहराया।

इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग द्वारा राज्य स्तरीय पुरस्कार वितरण समारोह में दिव्यांगों को कैबिनेट मंत्री अनिल राजभर ने किया पुरस्कृत।

बलरामपुर: उत्तरप्रदेश के बलरामपुर जिले में लव शादी और धोखे का मामला सामने आया है। यहां लखनऊ के रहने वाली एक दिव्यांग महिला व्हील चेयर पर बलरामपुर स्थित अपने ससुराल पहुच गयी। जहां ससुराल वालों ने उसके लाख प्रयास के बाद भी दरवाजा तक नहीं  खोला। जिसके बाद पीड़ित विवाहिता ने महिला थाने समेत उच्चाधिकारियों …

लखनऊ: यूपी के दिव्‍यांगजन सशक्तिकरण विभाग की पहल पर इस बार की दीपावली दिव्‍यांगों के लिए उम्‍मीद की एक नई रोशनी लेकर आई है। सोमवार को वेब सिटी मॉल में दिव्‍यांगजन सशक्तिकरण विभाग की प्रेरणा से बचपन केयर स्‍कूल सहित विभाग के अंतर्गत संचालित राजकीय स्‍कूलों के बच्‍चों ने अपने अध्‍यापकों संग हैंडीक्राफ्ट की प्रदर्शनी …

कानपुर: एक दिव्यांग युवक ने अपनी जिन्दगी से ऊब कर सुसाईड कर लिया।  उसकी चाह थी कि मेरे मरने के बाद मेरे भाई की जिन्दगी में रोशनी लौट आए।  उसने सुसाईड करने से पहले सुसाईड नोट लिखा कि मेरे मरने के बाद मेरी आंखे मेरे भाई को दे दी जाएं। जान देने के बाद भी …

जिले में कुछ दिव्यांगों ने अपने मेहनत और लगन की दम पर एक शानदार मिसाल पेश की है । जिले के 11 दिव्यांगों ने साथ मिलकर अंश लघु कृषक उत्पादक कंपनी लिमिटेड की स्थापना की। इसमें अपने जैसे 450 किसानों को जोड़ा।

प्रदेश सरकार के पिछड़ा वर्ग व दिव्यांग जन मंत्री आज शनिवार (6 मई) जिले में दिव्यांगों के लिए आयोजित कार्यक्रम में हिस्सा लेने के आए थे।

कानपुर: पापा अब मुझे मरने दो मेरा जीवन तो वैसे ही बेकार है, सभी भाइयों को आराम से रहने दो। लेकिन मेरे कातिल को छोड़ना मत। यो वो शब्द हैं, जिसे एक शख्स ने खुदकुशी करने से पहले बोले हैं। नौबस्ता थाना क्षेत्र के हंसपुर में रहने वाले कौशल किशोर (दिव्यांग) का शव बुधवार (3 मई) …

सीएम बनने के बाद योगी आदित्यनाथ रविवार (30 अप्रैल) को पहली बार देवरिया पहुंचे। जहां उन्होंने दिव्यांगों के एक कार्यक्रम में शिरकत की। उन्होंने कहा कि यूपी में दिव्यांगों का पेंशन 300 रुपए से बढाकर 500 रुपए कर दिया गया है। जिस तरह पीएम मोदी दिव्यांगों के प्रति बेहद संवेदनशील हैं, उसी तरह यूपी सरकार भी पूरी सवेदनशीलता से साथ काम दिव्यांगों के लिए काम रही है।