diwali

सरकारी टेलीकॉम कंपनी BSNL के कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी आई है। कर्मचारियों को सितंबर महीने की सैलरी दिवाली से पहले मिल जाएगी। इससे पहले खबर आई थी BSNL के कर्मचारियों को सैलरी नहीं मिलेगी।

दीपों का त्योहार दीवाली  अंधकार को दूर करता है। और प्रकाश की तरफ ले जाता है। इस दिन सभी ओर दीपों की रोशनी  जगमगाती रहती है। कहते है कि जब रामचंद्र जी लंका पर विजय पाकर और 14 वर्ष का वनवास काट कर अयोध्या लौटे तो उस दिन पूरे नगर में दीप जलाए गए थे।

स बार अयोध्या के 16 घाटों पर दीयों के माध्यम से पूरी अयोध्या के दर्शन हो जाएंगें। पिछली बार विश्वविद्यालय प्रशासन ने एक साथ सर्वाधिक दीप जलाकर गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड में स्थान बनाया था। विश्व हिंदू परिषद ने भी इस बार रामलला के दरबार में दीपोत्सव के दौरान 51000 दीपक जलाने की योजना बनाई है।

खुद को स्टाइलिश बनाने के साथ घर के भी इंटीरियर को बेहतर लुक देने के लिए पहले से तैयारी करनी होती है। वैसे तो हम हर दिन अपने घरों की सफाई करते हैं, पर फेस्टिवल खासकर दीपावली में घर को अच्छे से साफ किया जाता है। सालभर की गंदगी को एक-एक करके साफ किया जाता है।

फेस्टिव सीजन में लोगों के सोने की खरीददारी करते हैं। खासतौर से दीवाली और धनतेरस पर सोना खरीदना शुभ माना जाता है। अगर आप भी सोना खरीदना चाहते हैं, तो पहले ही खरीद लें, क्योंकि धनतेरस पर सोने की कीमत 40,000 रुपए से ज्यादा हो सकती है।

त्योहारों का सीजन शुरू हो गया है। सभी ने दुर्गापूजा व विजयदशमी को बहुत ही अच्छे तरीके से मनाया। लेकिन अब बारी है दीपों के त्योहार दिवाली की, जिसकी तैयारी बड़ी जोरो-शोरो से चल रही है।

अगर आप भी घर खरीदना चाहते हैं, तो अपके लिए खुशखबरी है। क्योंकि बैंक अब सस्ती दरों पर लोन देने की तैयारी में हैं। ऐसा इसलिए है कि रिजर्व बैंक ने हाल ही में रेपो रेट में 0.25 फीसदी की कटौती की है। इसके बाद रेपो रेट घटकर 5.15 प्रतिशत हो गया है।

इंडियन बैंक्स एसोसिएशन (आईबीए) ने बैंक कर्मचारियों एवं उनके परिवार के सदस्यों को त्योहारी सीजन के दौरान एक बड़ा तोहफा देने का ऐलान किया है। आईबीए ने बैंकों को कर्मचारियों एवं अधिकारियों को एक माह का एडवांस एरियर देने का निर्देश किया है।

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि की तीसरी किश्त के लिए लाभार्थी किसानों का बायोमैट्रिक वेरीफिकेशन पहले ही जरूरी किया गया था। स्कीम की 2 किश्त तो लोकसभा चुनाव से पहले ही बिना सत्यापन के दे दी गई थी।

अक्टूबर के पूरे महीने में कुछ न कुछ पड़ ही रहा है। ऐसे में ये महीना कई मायनों में खास है। ये महीना न सिर्फ त्योहारों से भरा हुआ है बल्कि इसके साथ सरकार के कई नए नियम भी लागू हुए हैं। इस लिहाज से भी ये महीना काफी खास है।