DM

ऑरेंज जोन में चल रहे इत्रनगरी में लॉकडाउन के तीसरे चरण में जिला प्रशासन ने कुछ ढील दी है, लेकिन फिजिकल डिस्टेंसिंग व मास्क लगाना जारी रहेगा। सेनेटाइजर भी रखना होगा। उल्लंघन करने पर कार्रवाई भी होगी।

जिलाधिकारी ने बताया कि इस वेवसाइट पर मांगी गयी सूचना में नाम, उम्र, लिंग, पिता या पति का नाम, मोबाइल नम्बर, आधार नम्बर, प्रदेश वर्तमान में जहां पर है भरें।

कोविड 19 वैश्विक महामारी के चलते देश में लाॅकडाऊन के चलते गरीब मजदूरों के समक्ष आर्थिक संकट उत्पन्न हो गया है। इससे निपटने के लिए उत्तर प्रदेश की सरकार मनरेगा योजना के तहत मजदूरों को काम देकर उन्हें आर्थिक रूप से मजबूत बनाने के प्रयास में लगी है।

जिलाधिकारी ने सभी जिले के अधिकारियों से कहाकि जानकारी मिल रही है कि अधिकारी बिना अनुमति के शाम को वाराणसी व अन्य जिलों में अपने घर चले जा रहे हैं।

डीएम व एसपी संयुक्त रुप से पर्याप्त पुलिस बल के साथ शहर क्षेत्र में रमजान माह के दृष्टिगत शान्ति, कानून व्यवस्था बनाये रखने व नोवेल कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के दृष्टिगत प्रभावी लॉकडाउन व सोशल डिस्टेसिंग का कड़ाई से पालन कराने हेतु रूट मार्च में शामिल रहे।

मुंबई के 53 पत्रकारों में कोरोना की पुष्टि के बाद देश में हड़कंप मचा है। बनारस के जिलाधिकारी महोदय ने भी मुम्बई की घटना से सबक लिया है। उन्होंने पत्रकारों की सेहत की चिंता जताते हुए कोरोना टेस्ट कराने की अपील की है।

डीएम सुशील कुमार पटेल ने कहा कि कोविड-19 के महामारी में कोई व्यक्ति भुखा न रहे इसके लिये पर्याप्त व्यवस्था की जा रही है। उन्होंने कहा कि यदि किसी व्यक्ति के पास राशन न हो कंट्रोल रूम पर फोन कर अवगत करा सकता है

अर्शी पैरामेडिकल इंस्टीट्यूट छात्रावास में बाहर से आए हुए लोगों के लिए क्वारंटीन सेंटर बनाया गया है। यहां की व्यवस्थाओं का जायजा लेने के लिए आलाधिकारी मौके पर पहुंचे। दो-तीन लोगों ने भोजन कम मिलने की शिकायत की। इस पर डीएम ने मांग के तहत भोजन देने को कहा।

उत्तर प्रदेश के वाराणसी के छात्रों बड़ी राहत मिली है। जिले के डीएम ने सीबीएसई और आईसीएसई बोर्ड के स्कूलों को लॉकडाउन अवधि के दौरान फीस जमा नहीं करने के लिए कहा है।