doctor

कोरोना वायरस के संकट से लोगों को बचाने की कोशिश में जुटे डॉक्टर रात दिन काम कर रहे हैं। लगातार काम वह भी पीपीई किट पहने हुये। ये कोई आसान काम नहीं है। डाक्टर कहते हैं कि वायरस बचाव के लिए जरूरी पीपीई किट हमेशा पहने रहना पड़ता है।

कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में डाक्टर सबसे बड़ी भूमिका में हैं। लेकिन इन डाक्टरों की कहना है कि यदि सब लोग अपनी जीवन शैली में बदलाव लाएँ तो खुद ही इस जंग को जीत सकते हैं। हमें अपनी पुरानी परंपराओं में लौटना होगा और आदतें बदलनी होंगी।

फ़्रेंड्स कॉलोनी में 13 मई को लाइफ केयर मल्टी स्पेशलिटी हॉस्पिटल में एक महिला गंभीर हालत में इलाज के लिए भर्ती हुई थी जहां थोड़ी देर बाद डॉक्टर के मुताबिक घर वालों की मंशा अनुसार हालात चिंताजनक देख सैफई पीजीआई के रिफर कर दिया गया लेकिन घर वाले सैफई न ले जाकर एक अन्य निजी अस्पताल में ले गये।

कोतवाल अतुल सिंह ने बताया कि कोरोना पाजिटिव निजी चिकित्सक और उनके स्टाफ के विरुद्ध मुकदमा दर्ज हुआ है। मुकदमा जहानाबाद चौकी इंचार्ज की तहरीर पर दर्ज हुआ है

पूरा देश इस वक्त कोरोना वायरस की महामारी से जूझ रहा है। ऐसे में कोरोना की इस लड़ाई में डॉक्टर्स एक महत्वपूर्व भूमिका निभा रहे हैं। डॉक्टर्स अपनी जान जोखिम में डालते हुए कोरोना संक्रमित मरीजों की जान बचा रहे हैं।

जिले के लिए राहत भरी खबर आई है। जमालपुर थाना क्षेत्र के शेरवा गांव निवासी कोरोना पॉजिटिव मरीज की दो जांच रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद उसे अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है।

कोरोना संक्रमण के इस समय में कोरोना से लड़ रहे चिकित्सकों को कई जगह हिंसा का शिकार होना पड़ रहा है। केंद्र सरकार ने इसका संज्ञान लेते हुए कड़ा कानून पूरे देश में लागू कर दिया है।

उत्तर प्रदेश के कासगंज जिले में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करा रहे डॉक्टर के साथ कुछ दबंगों ने हाथापाई की और साथ ही जान से मारने की धमकी भी दे डाली।

यहां सोमवार को जब एक डॉक्टर के शव को दफनाने के लिए कब्रिस्तान ले गए, तो वहां पर 50 से अधिक लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गई। भीड़ ने एम्बुलेंस पर हमला बोल दिया, बता दें कि इस 55 वर्षीय डॉक्टर की मौत कोरोना वायरस की वजह से हुई है।

पिता जी चले गए तब मैंने इन गानों के बोल सुने। मुझे यह समझ में आया कि जीवन क्या है। अच्छे बुरे सभी लोगों को एक साथ लेकर चलना है। जीवन एक संघर्ष है,-सभी से प्यार से बोलो एंव प्यार से रहो। यही जीवन का यथार्थ है। इन गानों के माध्यम से पिताजी हम सभी को यह संदेश दे गए कि, यही जीवन है।