doctor

संकट की इस घड़ी में हर कोई सहयोग की भावना से काम कर रहा है। आज के समय में  अगर सच्चे मायने में कोई भगवान है तो वो डॉक्टर्स है। मुंबई में ऐसे ही एक उदाहरण देखने को मिला हैं। इस डॉक्टर ने फरिश्ते का रूप धारण कर नवजात बच्चे की जान बचा ली। पैदा होने के बाद ही बच्चे को सांस लेने में परेशानी हो रही थी

कोरोना से जंग जीतने के लिए अपनी जान हथेली पर रखकर मरीजों को ठीक करने वाले डॉक्टरों के साथ हो रहे अमानवीय व्यवहार, हमलों को रोकने के लिए डॉक्टरों ने सीआरपीएफ सुरक्षा की मांग की है।

देश में इस वक्त  कोरोना वायरस के मरीजों के आंकड़ों में हर दिन इजाफा देखने को मिल रहा है।  यहां कोरोना वायरस का कहर बढ़ रहा है। वहीं डॉक्टर्स लगातार कोरोना वायरस के मरीजों से दो-चार हो रहे हैं। इस बीच डॉक्टर्स को कई तरह की समस्याओं का सामना भी करना पड़ रहा है।

इस वक्त कोरोना वायरस ने दुनिया के ज्यादातर हिस्सों में आतंक मचा रखा है और बड़ी से बड़ी हस्ती भी इसके दायरे से दूर नजर नहीं आ रही है। ताजा केस जर्मनी से सामने आया है वहां चांसलर चांसलर एंजेला मर्केल को क्वॉरंटीन होना पड़ा है। हालांकि, मर्केल के टेस्ट अभी होने बाकी हैं और उसके बाद ही पता चलेगा कि वो कोविड-19 इन्फेक्शन के लिए पॉजिटिव हैं या नहीं।

कोरोना वायरस की दवा बनाने के दुनियाभर में प्रयास किए जा रहे हैं। इस बीच महाराष्ट्र में कोरोना वायरस की दवा देने का दावा करने वाले एक डॉक्टर के खिलाफ भ्रामक विज्ञापन से अफवाह फैलाने का मामला दर्ज किया गया है।

कोरोना के खिलाफ पूरी दुनिया में जंग जारी है। लेकिन इस बीच एक अस्पताल में बड़ी चूक भी देखने को मिली है। डॉक्टर की एक गलती पूरे हॉस्पिटल को भुगतनी पड़ी।

कोरोना वायरस से निपटने के लिए प्रदेश के अस्पतालों में हाईटेक व्यवस्था करने का दम भरा जा रहा है। लेकिन इन अस्पतालों में पॉवर बैकअप जैसी बुनियादी सुविधाएं...

नैनो कैप्सूल ने चिकित्सा के क्षेत्र में काफी तेजी से पैर बढ़ाने शुरू कर दिये हैं। इसके चलते जहां मर्ज होगा, वहीं नैनो कैप्सूल मार करेगा। नैनो कैप्सूल को...

इंसान अगर आरो का पानी पिए, महलो में हर सुख सुविधा के साथ रहे तो की आश्चर्य की बात नहीं होती, लेकिन ये सारी सुविधाएं अगर जानवरों को मिले तो इसमें आश्चर्य जरूर होगा। पूना में भाग्यलक्ष्मी नाम से चल रही डेयरी में रहने वाली गायों को कुछ सी तरह की सुविधाएं दी जाती है।