doklam dispute

 स्टार्टफोर संस्था के वरिष्ठ  वैश्विक विश्‍लेषक सिम टैक ने कहा कि चीन के सैन्य ठिकानों की यह तैयारी लद्दाख टकराव से ठीक पहले की गई जो यह दर्शाती है कि पूर्वी लद्दाख में जारी यह तनाव चीन के अपने सीमाई इलाकों पर नियंत्रण हासिल करने के लिए बड़े पैमाने पर किए जा रहे प्रयास का हिस्सा् है।

भारत और चीन के बीच गलवान घाटी में हुई हिंसक खूनी झड़प के बाद चीन अब भारत के सख्त रुख से रूबरू होे गया है। जिसके चलते चीन अब इस बार डोकलाम जैसी गलती दोहराना नहीं चाहता है।

नई दिल्ली: भारत-चीन के बीच सिक्किम सेक्टर के डोकलाम में शुरू हुआ विवाद दो महीने 12 दिन बाद खत्म हो गया और दोनों देश अपनी सेनाएं हटाने को राजी हो गए हैं। विदेश मंत्रालय ने 28 अगस्त को बयान जारी कर कहा कि दोनों देश अपनी सेना हटाने पर राजी हो गए हैं। सेना हटाने …