donald trump

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने जी-7 शिखर सम्मेलन के आयोजन को लेकर बड़ा बयान दिया है। ट्रंप ने कहा कि जी-7 शिखर सम्मेलन का आयोजन उनके रिजॉर्ट ‘ट्रंप नेशनल डोरल’ में नहीं होगा।

तुर्की लगातार सीरिया में बमबारी कर रहा है। अब अमेरिका ने तुर्की को कड़ी चेतावनी दी है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने तुर्की को पहले ही चेतावनी दी थी कि अगर उसने अपना हमला नहीं रोका तो वह उसे बर्बाद कर देंगे।

सितंबर में पीएम के अकाउंट पर पांच करोड़ से ज्यादा फॉलोअर्स हो गए थे, जबकि उनके फेसबुक पेज पर 4.4 करोड़ लाइक्स हैं। बता दें, जब पीएम मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे, तब से वह माइक्रो ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल कर रहे हैं।

अमेरिका ने हाल ही में उत्तरी सीरिया से अपनी सेना हटा लिया। इसके बाद से तुर्की लगातार सीरिया पर हमला कर रहा है। विदेशी मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक शनिवार से भारी बमबारी हो रही है। यह विश्व का सबसे बड़ा कुर्द क्षेत्र है।

अमेरिका और तुर्की के बीच तल्खी कम होने का नाम नहीं ले रही है। बताया जा रहा है कि अमेरिका ने अभी इस तल्खी को कम करने के लिए कदम बढ़ाया ही था कि तुर्की ने फिर ऐसी हरकत कर दी थी दोनों देशों के बीच एक बार फिर से युद्ध जैसे हालात बन गये है।

भारत की तुलना में पाकिस्तान और तुर्की के संबंध काफी अच्छे हैं। दोनों इस्लामिक मुल्क हैं। इसकी वजह से दोनों ही काफी नजदीक हैं। दरअसल दोनों ही देश सुन्नी प्रभुत्व वाले देश हैं। इसके अलावा कश्मीर मुद्दे पर भी तुर्की पाकिस्तान का समर्थन करता है।

उत्तर कोरिया और अमेरिका दोनों देशों के अधिकारी स्वीडन में परमाणु वार्ता की तैयारी के लिए पहुंच चुके हैं और वार्ता की तैयारियां शुरु भी हो चुकी हैं। इस बीच उत्तर कोरिया ने अमेरिका पर परमाणु वार्ता तोड़ने का आरोप लगाया है।

पीएम मोदी ने कहा कि उन्होंने यूएन में भारत की विकास कार्यक्रमों और इसके परिणामस्वरूप देश की बदलती तस्वीर का भी जिक्र किया। पीएम ने कहा कि भारत दुनिया को शांति, समृद्धि और भाईचारे से लबालब करने की दिशा में हरसंभव प्रयास करता रहेगा।

न्यूयॉर्क स्थित संयुक्त राष्ट्र(यूएन) मुख्यालय में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच द्विपक्षीय वार्ता हुई। इस बीच के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच एक टेबल पर कोक की बोतल रखी हुई थी।

कश्मीर मसले पर अमेरिका की ओर से कोई ठोस मदद ना मिलने से पाकिस्तान के पीएम इमरान खान पूरी तरह से हताश हो गये है। इमरान ने अब कश्मीर मुद्दे पर अपनी हार कबूल कर ली है।