donald trump

'2020 का राष्ट्रपति चुनाव अमेरिका के इतिहास का सबसे महत्वपूर्ण चुनाव है जो अमेरिकी समाज और राजनीति के साथ साथ दुनिया के परिदृश्य को बदला देगा। कोरोना वायरस महामारी के जबरदस्त संकट काल में होने वाले इस चुनाव पर पूरी दुनिया की निगाहें लगीं हुईं हैं।

मंत्रालय ने इस बारे में विस्तार से कुछ भी नहीं बताया कि चीन किस तरह के कदम उठाने की तैयारी में है। भारत ने 29 जून को टिकटॉक और वीचैट के साथ चीन के 59 ऐप पर रोक लगाने की घोषणा की थी।

अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में कड़े मुकाबले में फंसे राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप चुनाव में राष्ट्रवाद का रंग घोलने में जुट गए हैं। उन्होंने नेशनल आर्काइव्स म्यूजियम में एक कार्यक्रम के दौरान खुद को अमेरिकी विरासत का रक्षक बताते हुए बड़ा एलान किया।

अमेरिका ने भी इस ऐप पर प्रतिबंध लगाने की तैयारी कर ली है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (U.S. President Donald Trump) ने अमेरिका में रविवार से इस चीनी ऐप की डाउनलोडिंग (Downloading) पर प्रतिबंध लगाने का आदेश दिया है।

अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव की तारीख नजदीक आने के साथ ही दोनों उम्मीदवारों राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और डेमोक्रेटिक पार्टी के जो बिडेन के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर और तीखा हो गया है।

केंद्र की वर्तमान सरकार में सब बदला है। सरकार अल्पसंख्यक तुष्टिकरण से दूर रहती है। तो विदेश नीति को तो इससे अलग लग रखना लाज़िमी है। पर जिस तरह अरब देश इज़रायल को लेकर अपना नज़रिया बदल रहे हैं, उससे यह तय दिख रहा है कि यह ‘एलीमेन्ट’ ही सिरे से ग़ायब हो जायेगा।

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप एक बार फिर से चर्चा में हैं। इसकी वजह एक अंग्रेजी अखबार में ट्रंप को लेकर छपी रिपोर्ट है। डेली मेल में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, ट्रंप खुद इस घटना को स्वीकार कर चुके हैं कि एक व्यक्ति के छींकने के बाद वे अपना दफ्तर छोड़कर भाग निकल गए थे।

राष्‍ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि अगर ईरान ने अमेरिका के खिलाफ किसी भी तरह से कोई भी हमला किया तो उसके खिलाफ 1000 गुना ज्‍यादा ताकत से हमला करेंगे

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग उन इन दिनों खासा चर्चा में बने हुए हैं। इसकी एक बड़ी वजह पत्रकार बॉब वुडवार्ड द्वारा लिखी गई एक किताब है।

दरअसल अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को 2021 के नोबेल शांति पुरस्कार के लिए मामित किया गया है। बताया जा रहा है कि इजरायल और यूएई के बीच ऐतिहासिक शांति वार्ता करवाने के लिए डोनाल्ड ट्रंप को नामित किया गया है।