donald trump

ट्रंप ने ट्विटर पर यह घोषणा की। उनकी यह घोषणा व्हाइट हाउस के आश्वासन के ठीक उल्टा है जिसमें इस तरह की कार्ययोजना को छोड़ देने की बात कही गई थी। दरअसल ट्रंप के इस तरह के विचार की आलोचना की जा रही थी और ऐसा कहा जा रहा था जिन शहरों में विपक्षी डेमोक्रेट्स हैं, उनसे प्रतिशोध के तौर पर इसे तैयार किया जा रहा है।

प्योंगयांग की आधिकारिक कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी ने शनिवार को बताया कि किम ने यह बात उत्तर कोरिया की संसद में एक सत्र के दौरान कही।

2019 वर्ल्ड लीडर्स ऑन फेसबुक की रिपोर्ट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुनिया के सभी बड़े नेताओं को पीछे छोड़ते हुए पहला स्थान हासिल किया है। इस सूची में दूसरे स्थान पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप हैं।

ओवल ऑफिस में गुरुवार को दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति मून जेइ-इन के साथ बातचीत की शुरुआत में ट्रंप ने कहा, ‘‘हम उत्तर कोरिया और किम जोंग उन के साथ आगे की संभावित बैठकों के बारे चर्चा करेंगे।’’

उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग उन ने बुधवार को सत्तारूढ़ वर्कर्स पार्टी की एक शीर्ष टीम की बैठक बुलाई है। इस बैठक में ‘मौजूदा तनावपूर्ण स्थिति’ पर चर्चा होगी। सरकारी मीडिया की खबर से यह जानकारी मिली है।

गौरतलब है कि ट्रंप द्वारा मैक्सिको में बनने वाली कारों पर शुल्क लगाने की धमकी दिए जाने के बाद यह बयान आया है। वित्त मंत्री ग्रासिलिया मार्केज कॉलिन ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘मैक्सिको की सरकार के लिए आव्रजन और व्यापार के मुद्दों को अलग-अलग रखना बहुत महत्वपूर्ण है।’’

अधिकारियों ने पोम्पियो की अनुपस्थित के बारे में विस्तृत ब्योरा नहीं दिया। लेकिन ईरान के परमाणु कार्यक्रम को बंद करने के अंतरराष्ट्रीय समझौतों से अमेरिका के इंकार और जलवायु परिवर्तन से निपटने सहित कई मुद्दों पर असहमति के बीच यह निर्णय सामने आया है।

उन्होंने कहा कि उत्तर कोरिया पहले से ही कष्ट में है और वह उसके नेता किम जोंग उन के साथ अपने संबंधों को महत्व देते हैं। ट्रम्प ने एक सप्ताह पहले भी ट्वीट किया था कि वह उत्तर कोरिया पर प्रतिबंध हटा रहा है जो वित्त मंत्रालय उस पर लगाने की योजना बना रहा था।

मून परमाणु हथियारों से सशक्त उत्तर कोरिया के साथ वार्ता की नीति का लंबे समय से समर्थन करते रहे हैं। उन्होंने ट्रंप और उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन के बीच वार्ता कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी

ट्ंरप ने हाल में कहा था , " गूगल अमेरिका की नहीं बल्कि चीन और उसकी सेना की मदद कर रहा है। "पिचाई से व्हाइट हाउस में मुलाकात के बाद ट्ंरप ने बुधवार को कहा , " पिचाई के साथ बैठक काफी अच्छी रही। "