donald trump

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के कश्मीर को लेकर मध्यस्थता वाले बयान पर संसद में महाभारत जारी है। कांग्रेस समते विपक्ष प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान पर अड़ा हुआ है। विपक्षी दलों सांसदों ने लोकसभा में जमकर हंगामा किया। विदेश मंत्री जयशंकर ने मंगलवार को संसद में बयान दिया था।

कश्मीर विवाद को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बयान के बाद भारत की सियासत में भूचाल आ गया है। संसद में विपक्ष ने जमकर हंगामा किया है और पीएम मोदी से सफाई की मांग की है। लेकिन भारत के जवाब के बाद अमेरिका बैकफुच पर आ गया है।

गौरतलब है कि पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में ट्रम्प ने सोमवार को कहा कि मोदी दो हफ्ते पहले उनके साथ थे और उन्होंने कश्मीर मामले पर मध्यस्थता की पेशकश की थी और मुझे इसमें मध्यस्थता करने पर खुशी होगी।

डोनाल्ड ट्रंप द्वारा कश्मीर को लेकर दिए गए विवादित बयान के बाद से अमेरिका के विदेश मंत्रालय ने खुद उनसे पल्ला झाड़ लिया है। इस मामले में अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने साफ़ कह दिया है की कश्मीर मुद्दा एक द्विपक्षीय मुद्दा है और इसमें तीसरे पक्ष की कोई भूमिका नहीं है।

इस वर्ष के शुरू में कश्मीर के पुलवामा में पाकिस्तानी आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के एक आत्मघाती हमलावर द्वारा किये गए विस्फोट में सीआरपीएफ के 40 जवानों के शहीद होने के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव और बढ़ गया।

वॉशिंगटन: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान अमेरिका के साथ संबंधों में सुधार के मकसद के साथ राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से सोमवार को वार्ता करेंगे। पाकिस्तान और अमेरिका के संबंध तब से प्रभावित हुए जब ट्रंप ने सार्वजनिक तौर पर पाकिस्तान की आलोचना की, उसे दी जाने वाली सैन्य सहायता रोक दी तथा उसे आतंकवाद से …

उस व्यक्ति ने स्वामी हरीश चंद्र पुरी इतनी बुरी तरह से पीटा कि उन्हें अस्पताल ले जाना पड़ा। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, यह घटना 18 जुलाई की है। पुरी को कई जगह चोटें लगी हैं।

अमेरिका में पाकिस्तान की बहुत बड़ी बेइज्जती हुई है। अमेरिका में इमरान खान का बहुत बड़ा अपमान हो गया है। पाकिस्तान पहुंचे इमरान खान का स्वागत करने कोई नहीं पहुंचा। इमरान खान खुद मेट्रो पकड़कर अपने होटल पहुंचना पड़ा। जानकारी के मुताबिक एयरपोर्ट पर इमरान खान की अगवानी के लिए अमेरिकी प्रशासन का कोई बड़ा अधिकारी नहीं पहुंचा।

पीएम इमरान खान ने करदाताओं के पैसे बचाने के लिए खास संदेश देते हुए वाणिज्यिक कतर एयरवेज से वॉशिंगटन के लिए उड़ान भरी। उनकी यह यात्रा ऐसे समय में हो रही है जब पाकिस्तान ने अमेरिका द्वारा जताई गई चिंताओं के बावजूद अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष से 6 अरब डॉलर का बेलआउट प्राप्त किया है।

इमरान खान 21 जुलाई रविवार को वाशिंगटन के लिए रवाना होंगे, जहां वह 22 जुलाई को व्हाइट हाउस में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से मुलाकात करेंगे।