drdo

पहली मिसाइल का प्रक्षेपण ओडिशा के एक लैंड बेस्ड मोबाइल लांचर से हुआ था, जिसमें अधिकांश उपकरण स्वदेशी थे। इसमें मिसाइल एयर फ्रेम, फ्यूल मैनेजमेंट सिस्टम को डीआरडीओ ने डिजाइन किया था।

सेना प्रमुख बिपिन रावत ने मंगलवार को स्वदेशी तकनीक को बड़े पैमाने पर बढ़ाने की वकालत की। उन्होंने कहा कि भारत अगला युद्ध देश में ही विकसित हथियारों के साथ लड़ेगा और जीतेगा।

नौकरी की तलाश कर रहे युवाओं के लिए अच्छी खबर है। एयरोनॉटिकल डवलपमेंट स्टैब्लिशमेंट, बेंगलुरु ने जूनियर रिसर्च फेलो और रिसर्च एसोसिएट के 10 पदों पर वैकेंसी निकाली है। यह संस्थान डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (डीआरडीओ) का उपक्रम है।

उड़ान के दौरान चित्रदुर्ग जिले के जोडीचिकेनहल्ली में सुबह 6 बजे रुस्तम-2 विमान दुर्घटनाग्रस्त हुआ। इस विमान को तापस बीएच-201 भी कहते हैं। DRDO का एक अनमैन्ड एरियल व्हीकल यूएवी कर्नाटक में क्रैश हो गया। विमान अपनी परीक्षण उड़ान पर था।

कर्नाटक में एक अनमैन्ड एरियल व्हीकल (यूएवी) मंगलवार सुबह हादसे का शिकार हो गया है। यह यूएवी रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) का था।

नौकरी की तलाश कर रहे युवाओं के लिए अच्छी खबर है। 10वीं और 12वीं पास के लिए रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) में वैकेंसी निकली है। नोटिफिकेशन जारी कर जानकारी दी गई है कि ये भर्तियां प्रशासन और संबद्ध विभाग में होगी।

भारत ने ओडिशा के परीक्षण केंद्र से एक परिष्कृत मिसाइल का रविवार को परीक्षण किया। ‘सतह से हवा में मार करने में सक्षम त्वरित प्रक्रिया मिसाइल’ (क्यूआरएसएएम) को प्रत्येक मौसम तथा प्रत्येक इलाके में इस्तेमाल हो सकने के लिहाज से तैयार किया गया है।

डीआरडीओ के प्रमुख जी. सतीश रेड्डी ने कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए शानिवार को कहा कि मिशन शक्ति की प्रकृति ऐसी है कि इसे किसी भी सूरत में गोपनीय नहीं रखा जा सकता है।

भारत का उपग्रह भेदी मिसाइल परीक्षण महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकी विकसित करने में देश की बढ़ती क्षमताओं को दर्शाता है और यह कवच के तौर पर काम करेगा। यह बात बुधवार को डीआरडीओ के अध्यक्ष जी. सतीश रेड्डी ने कही।

भारत ने सोमवार को राजस्थान के पोखरण में सोमवार दो पिनाका रॉकेट का सफल परीक्षण किया है। दोनों रॉकेट 90 किमी की रेंज में अपने लक्ष्य को हिट करने की क्षमता रखते हैं ।इससे पहले भारत ने जनवरी में ओडिशा के चांदीपुर एकीकृत परीक्षण रेंज (आईटीआर) से गाइडेड रॉकेट 'पिनाका' का दूसरा सफल प्रक्षेपण किया था।