ec

लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण के लिए मतदान जारी है। इस बीच मतदान कर्मचारियों की मौत की खबरें सामने आई हैं। यूपी में दो और दो मध्य प्रदेश में चुनाव कर्मचारियों की मौत का मामला सामने आया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केदारनाथ मंदिर में पूजा अर्चना और साधना की। केदारनाथ के दर्शन के बाद मोदी कहा कि भगवान केदारनाथ का आशीर्वाद भारत और संपूर्ण मानव जाति पर बना रहे। इसके बाद उन्होंने भगवान बदरीनाथ भी रविवार को दर्शन किया। अब पीएम मोदी की केदारनाथ यात्रा पर विवाद शुरू हो गया है।

कांग्रेस ने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के रोडशो के दौरान भड़की हिंसा की पृष्ठभूमि में चुनाव आयोग द्वारा पश्चिम बंगाल में 16 मई की रात को ही चुनाव प्रचार रोकने के फैसले पर सवाल खड़ा किया और दावा किया कि आज लोकतंत्र के इतिहास का 'काला दिन' है।

ममता ने चेताया कि बंगाल को यूपी, बिहार या त्रिपुरा न समझें। राज्य सरकार की सुरक्षा होती तो हिंसा नहीं होती। अमित शाह चुनाव आयोग को धमका रहे हैं। मोदी ने मूर्ति तोड़े जाने की निंदा भी नहीं की।

छठवें चरण में 51-फूलपुर लोकसभा क्षेत्र में सबसे अधिक 20,06,228 मतदाता हैं। वहीं 39-प्रतापगढ़ लोकसभा क्षेत्र में सबसे कम 17,05,457 वोटर हैं। 16,998 मतदान केन्द्र और 29,076 मतदेय स्थल बनाये गये हैं।

उसी दिन उन्होंने महाराष्ट्र में लातूर जिले के औसा में भी ऐसी ही अपील की थी। आयाोग ने इस मामले में भी उन्हें क्लीन चिट दी थी लेकिन चुनाव आयुक्तों में एक ने इस मामले में असहमति व्यक्त की थी।

उन्होंने कहा कि इतनी तेज धूप में जहां कुछ घंटे एक जवान आदमी भी खड़ा नहीं हो सकता उस धूप में चंद पैसों के लालच में मासूम बच्चों को खड़ा होने पर विवश किया गया। यह सपा और बसपा का घिनौना चेहरा है।

प्रदेश उपाध्यक्ष व चुनाव प्रबंधन प्रभारी जेपीएस राठौर ने चुनाव आयोग से शिकायत कर गोण्डा प्रत्याशी विनोद कुमार सिंह उर्फ पण्डित सिंह पर जनप्रतिनिधि अधिनियम तथा भारतीय दण्ड संहिता के अन्तर्गत समुचित धाराओं में मुकदमा पंजीकृत कर दण्डित करने का आग्रह किया है।

उन्होंने कहा कि राजनाथ सिंह ने लखनऊ में किसी व्यक्ति विशेष के लिए नहीं, बल्कि समाज के लिए विकास कार्य किए हैं। इसमें मुस्लिम क्षेत्रों का विकास भी शामिल है।

डीजीपी ने बताया कि लोकसभा चुनाव में किसी भी प्रकार की भ्रामक पोस्ट सोशल मीडिया पर वायरल न हो सके। जिससे समाज का माहौल खराब हो और मतदान प्रभावित हो। इसके लिए सोशल मीडिया शिकायत सेल का गठन किया गया है।