economy

देश में कोरोना वायरस के चलते बीते दो महीनों से लॉकडाउन लागू है। ऐसे में पहले से ही सुस्त पड़ी भारतीय अर्थव्यवस्था को और अधिक नुकसान झेलना पड़ा है।

उत्तर प्रदेश के औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने कहा है कि इन्वेस्टर्स समिट में आये नए निवेश प्रस्तावों में से लगभग 50 प्रतिशत उद्योगों में व्यावसायिक उत्पादन शुरू हो चुका है।

कोरोना वायरस ने दुनिया की अर्थव्यवस्था को चौपट कर दिया है। इस महामारी ने मध्य-पूर्व में ईरान को सबसे अधिक प्रभावित किया है। कोरोना वायरस ने ईरान की अर्थव्यवस्था को चौपट कर रख दिया है।

लेकिन सरकार भी तब तक दुधारी तलवार पर चलने का जो खाम मोल नहीं लेगी जब तक कि जनता उसे यह भरोसा न दिलाये कि वह अभी हमकदम रहेगी। सुख दुख सहेगी। उसको सरकार से बस उम्मीद रखनी चाहिए कि सरकार की नीति और नियत ठीक हो। नतीजों को अंतरराष्ट्रीय हालात भी कम प्रभावित नहीं करेंगे।

कोरोना महामारी न फैल पाए इसलिए देश भर में लॉकडाउन चल रहा है। पहले 25 मार्च से 21 दिन का लॉकडाउन लगा फिर दूसरी बार इसे तीन...

देश में कोरोना संकट की मार सबसे ज्यादा महाराष्ट्र पर पड़ी है। कोरोना लॉकडाउन और सबसे ज्यादा संक्रमित मरीजों के मिलने की वजह से राज्य की अर्थव्यवस्था को काफी नुकसान हुआ है।

केंद्र सरकार की ओर से लॉकडाउन में रियायतें देने का एलान भले कर दिया गया हो मगर उद्योग जगत की मुश्किलें दूर होती नहीं दिख रही हैं। प्रवासी मजदूरों को घर वापसी की मंजूरी दिए जाने के बाद उद्योग जगत के माथे पर चिंता की लकीरें उभर आई हैं कि आखिरकार मजदूरों के बिना काम कैसे होगा।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक अल-जदान ने कहा कि 'सऊदी की इकॉनमी को ज्यादा अनुशासन की आवश्यकता है और आगे की राह लंबी है। खर्च कम करने के लिए मेगा-प्रोजेक्ट सहित सरकारी परियोजनाओं को धीमा किया जाएगा।'

कोरोना संकट से निपटने के लिए देश में सरकार ने लाॅकडाउन लागू किया है। कोरोना वायरस महामारी से संकट के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को अहम बैठक की।

कोरोना वायरस महामारी के कारण लॉकडाउन के बीच देश के जीडीपी विकास दर अनुमान में रेटिंग एजेंसियों द्वारा कटौती का सिलसिला बरकरार है। घरेलू रेटिंग एजेंसी क्रिसिल ने सोमवार को भारत की 2020-21 की आर्थिक वृद्धि के अपने अनुमान को करीब आधा कम करते हुए 1.8 प्रतिशत कर दिया।