education department

उत्तर प्रदेश की वर्तमान सरकार को विरासत में बेहतर शिक्षा व्यवस्था नहीं मिली थी। शिक्षा की गुणवत्ता, अनियमित सत्र, नकल, फर्जी डिग्री, ट्रांसफर पोस्टिंग में भ्रष्टाचार आदि से संबंधित अनेक समस्याएं थी, लेकिन पिछले दो वर्षों में ऐसी अनेक समस्याओं का समाधान हुआ है।

सरकार ने मंगलवार को माध्यमिक शिक्षा विभाग के 27 अधिकारियों के तबादले कर दिए। इनमें 4 संयुक्त निदेशक व 3 उपनिदेशक स्तर के अधिकारी शामिल हैं।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को लोकभवन में उच्च शिक्षा, माध्यमिक शिक्षा एवं बेसिक शिक्षा विभाग के कार्यों की समीक्षा करते हुए कहा सरकारी स्कूल 25 जून को खुल जाएं, बच्चे भले ही 1 जुलाई से आएं।

यूपी बोर्ड सचिव नीना श्रीवास्तव ने शुक्रवार को बताया है कि यह सेल परिषदीय परीक्षायें 2019 से संबंधित परीक्षार्थियों की समस्याओं का निराकरण करायेगी। परीक्षार्थी हाईस्कूल-इण्टरमीडिएट परीक्षाओं में आयी अपनी समस्याओं का सम्पूर्ण विवरण अपने परिक्षेत्र से संबंधित क्षेत्रीय कार्यालय में उपलब्ध कराकर समस्याओं का निराकरण कर सकते हैं।

उत्तराखंड: उत्तराखंड में पिछले दिनों दमयंती रावत का नाम सुर्खियों में रहा। शिक्षा विभाग की इस अधिकारी को लेकर उत्तराखंड में दो वरिष्ठ मंत्रियों श्रम मंत्री हरक सिंह रावत व शिक्षा मंत्री अरविंद सिंह पांडेय के बीच खुली जंग छिड़ी जिसमें जीत आखिरकार हरक सिंह रावत की हुई। शिक्षा विभाग की अधिकारी दमयंती रावत ने …

गोरखपुर: प्रदेश में योगी सरकार के 4 महीने पूरे हो गए हैं। इन 4 महीने में योगी सरकार ने बिजली-सड़क-पानी- स्वास्थ्य-शिक्षा सुविधाओं को सुधारने में कितना अपनी हनक दिखा पाई है और इसमें कितना सुधार कर पाई है? इस बात की जानकारी आपको रियलिटी चेक के जरिये बताएंगे । मुख्यमंत्री के बराबर सभी जनहित वाले …

इन सीटों को अगली भर्ती के लिए कैरी फारवर्ड नहीं किया जा सकता है। 9 पद एसटी के रिक्त रह गये हैं जिन पर नियमानुसार एससी अभ्यर्थियों की नियुक्ति की जाए। 30 पद ऐसे हैं जिन पर चयनित अभ्यर्थी दूसरे जिलों में चले गये। इन रिक्त पदों पर चयन के लिए योग्य लोगों पर विचार किया जाए।

लखनऊ :  राजधानी के 4 दर्जन से ज्यादा स्कूलों को यूपी का शिक्षा विभाग सेफ नहीं मानता है। इन स्कूलों को संवेदनशील मानते हुए इन्हें बोर्ड परीक्षा का सेंटर बनने की दौड़ से बाहर किया जा सकता है। इसके लिए शिक्षा विभाग ने प्रदेश के सारे एसडीएम स्तर के अधिकारियों से अपनी अपनी तहसील के …

कक्षा दो के बच्चों की उपस्थिति रजिस्टर में एक दिन आगे तक की दर्ज मिली। पूरे स्कूल में भले ही 4 बच्चे हों, लेकिन रजिस्टर में हर कक्षा में बच्चों की खासी तादाद है। मिड डे मील के नाम पर बच्चों को कभी भोजन नहीं मिला और न फ्रूट डे पर कभी कोई फल आया ।कागजों में बच्चों की उपस्थिति दिखा कर इनके हिस्से का खाना प्रधान और अध्यापक हजम कर रहे हैं।