emi

बैंकों ने लगातार 13वीं बार एमसीएलआर दर में कटौती की गई है। इसके पहले एसबीआई ने बाहरी बेंचमार्क से जुड़ी ब्‍याज दर (ईबीआर) को 7.05 प्रतिशत से घटाकर 6.65 प्रतिशत सालाना कर दिया था।

मारूति सुजुकी इंडिया की ओर से बताया गया कि उसने अपने ग्राहकों को बेहतर कर्ज सुविधा उपलब्ध कराने के लिये आईसीआईसीआई बैंक के साथ एक पैक्ट किया है।

अब आरबीआई के नए 3 महीनों के लिए मोहलत के ऐलान के बाद ग्राहकों को कुल 6 महीने की छूट मिल जाएगी। मतलब ये कि आप कुल 6 महीने तक लोन की ईएमआई नहीं देना चाहते हैं तो बैंकों की ओर से कोई दबाव नहीं पड़ेगा। वहीं, आपका क्रेडिट स्कोर भी बना रहेगा रहेगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 20 लाख करोड़ रुपए के पैकेज का एलान किया था। इस पैकेज का ब्यौरा वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण दे चुकी हैं। अब रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने रेपो रेट कटौती की घोषणा की है।

कोरोना वायरस महामारी को लेकर देश में लागू लॉकडाउन के बीच बीते 27 मार्च को कर्ज के किस्त चुकाने के लिए तीन महीने की मोहलत देने को लेकर रिजर्व बैंक की ओर से जारी सर्कुलर पर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर चुनौती दी गई है।

देश के प्रमुख बैकों ने ईएमआई में छूट को लेकर अपने ग्राहकों को आगाह किया है कि वे धोखेबाजों से सावधान रहें। बैंकों का कहना है कि साइबर...

कोरोना महामारी से पूरी दुनिया में हाहाकार मचा हुआ है। अगर आपने स्टेट बैंक आॅफ इंडिया (एसबीआई) से कोई रिटेल लोन लिया है तो आपके लिए अच्छी खबर है।

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने कोरोना वायरस के कारण शेयर बाजार और अर्थव्यवस्था को मायूसी से उबारने के लिए कई बड़े एलान किए हैं। पहला, उसने लोन की ईएमआई देने से तीन महीने की छूट दी है।

लॉकडाउन के बीच देश की इकोनॉमी को बूस्ट देने के लिए सरकार की ओर से लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। इसी के तहत रिजर्व बैंक ने उम्मीद के मुताबिक रेपो रेट में 75 बेसिस प्वाइंट की कटौती की है।

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने गुरुवार को मौजूदा वित्त वर्ष की छठीं और अंतिम मौद्रिक नीति का एलान किया है, लेकिन रेपो रेट में कोई कटौती नहीं की।