family

लॉकडाउन कुछ दिनों या कुछ महिनों बाद खत्म हो जाएगा। लोग नॉर्मल तो नहीं, लेकिन कुछ सावधानियों के साथ जिंदगी जीने लगेंगे। सफर पर निकलने लगेंगे और ऑफिस भी जाना शुरु कर देंगे। लेकिन सबसे ज्यादा जो परेशानी की बात है वो सफर है।

यूपी के कन्नौज में एक गांव ऐसा भी है जहां तीन पीढियां कोरोना वायरस के संक्रमण की चपेट में हैं। बुजुर्ग और दो बेटों में तो पहली शिफ्ट में हुई जांच में कोरोना की पुष्टि हो गई थी, उसके बाद बुजुर्ग दम्पति ही पॉजिटिव हो गए।

बच्चे के लिए तो सारी दुनिया उसके पेरेंट्स के इर्द-गिर्द ही होती है, लेकिन इस बात की अहमियत समझने की भी ज़रूरत है कि हर रिश्ते का अपना महत्व होता है। सो अपने बच्चे को पहले खुद समझें और फिर उसे परिवार का महत्व समझाएं।कभी भी अपने टीनएज किड, यानी किशोर होते बच्चे की तुलना किसी भी दूसरे बच्चे से न करें।

बच्चों के दिमाग पर घर के माहौल का असर पड़ता है। इसके लिए माता-पिता को विशेष ध्यान रखना चाहिए। माता-पिता और घर के बाकी सदस्यों को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि वह कोई भी ऐसा काम न करें, जिसका बुरा असर बच्चों पर पड़े। 

निर्भया गैंगरेप केस के दोषियों की फांसी एक बार फिर टल गई है। दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने कुछ दोषियों के पास कानूनी विकल्प बचे होने के आधार पर शुक्रवार को डेथ वॉरंट पर अगले आदेश तक के लिए रोक लगा दी।

श्रीलंका में इस बार एक परिवार से राष्ट्रपति व प्रधानमंत्री बन गए है। ऐसा नवनिर्वाचित राष्ट्रपति गोटबया राजपक्षे ने अपने बड़े भाई महिंदा राजपक्षे को फिर से श्रीलंका का प्रधानमंत्री बनाने का फैसला किया है।

लता मंगेशकर की हालत अब  स्थिर है। सोमवार को उनकी तबियत खराब होने के बाद मुंबई के ब्रीच कैंडी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। 90 साल की लताजी की हालत अब भी नाजुक है। उन्हें सांस लेने में तकलीफ हो रही थी।

अभी त्योहारों का सीजन चल रहा है। सभी लोग इसकी तैयारी में जूट गए है। परिवार के सभी साथ मिलकर त्योहार मनाएं तो खुशियां बढ़ जाती हैं। परिवार में प्रेम, सुख-शांति और समृद्धि बनी रहे, इसके लिए जानेंगे आसान उपाय।  

इन 11 मांगों में, कमलेश तिवारी के परिवार को उचित आर्थिक सहायता, बड़े लड़के सत्यम तिवारी को सरकारी नौकरी, सरकारी योजना के तहत एक आवास और कमलेश के परिजनों को आत्मरक्षा के लिए तत्काल शस्त्र लाइसेंस दिए जाने तथा खुर्शेद बाग का नाम बदल कर कमलेश बाग करने और राजधानी में कमलेश तिवारी की प्रतिमा लगावाने की मांग की है।

जयपुर:आज पुरुषों की तरह ही महिलाऐं भी कदम बढाकर आगे बढ़ रही हैं। लेकिन ऐसे महिलाओं के सामने कई चुनौतियां  हैं क्योंकि उन्हें अपना घर भी संभालना पड़ता और बच्चों को समय देना पड़ता हैं, नहीं तो बच्चों की परवरिश सही नहीं हो पाती है और बच्चे खुद को अकेला महसूस करते हैं। इसलिए  वर्किंग …