Farmers protest Latest Updates

किसानों ने कुर्सियां तोड़ दी। मामला बढ़ता देख और पुलिस बल बुलाया गया। किसानों का विरोध कर रहे भाजपा नेताओं के साथ पुलिस बल ने धक्का मुक्की की।

काफिला रुकने के बाद भी किसान आगे जाने की जिद पर अड़े रहे। इस दौरान एसओ आईटीआई विद्या दत्त जोशी किसानों के ट्रैक्टर के आगे बैठ गए, लेकिन किसान फिर भी नहीं माने और ट्रैक्टर आगे बढ़ाते रहे।

सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के समय चीफ जस्टिस ने कहा कि किसानों को प्रदर्शन का हक है, लेकिन ये कैसे हो, इस पर चर्चा हो सकती है। कोर्ट ने ये भी कहा कि हम प्रदर्शन के अधिकार में कटौती नहीं कर सकते हैं।

कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन कम होने का नाम नहीं ले रहा। दिल्ली बॉर्डर पर सोमवार को लगतार पांचवें दिन भी जाम देखने को मिला ।

चहल खाप ने कहा कि कल रोहतक में 30 खापें किसानों के समर्थन में आई थी। एक-दो दिन में हरियाणा की सभी खापें इस आंदोलन में किसानों के साथ उतरेंगी।

किसानों का कहना है कि जब तक उनकी मांगे नहीं पूरी होती हैं। वे अपने घर वापस लौट कर नहीं जाने वाले हैं। इस बार किसान अपने साथ रहने और खाने -पीने का पूरा सामान लेकर आये हैं।

दिल्ली के चारों ओर पंजाब और हरियाणा के किसानों ने पिछले कुछ दिनों डेरा जमाया हुआ है। कृषि कानून के खिलाफ सड़कों पर उतरे किसान अब पीछे हटने का नाम नहीं ले रहे हैं और दिल्ली में घुसने के लिए अड़े हैं।

किसानों के जमावड़े के कारण सबसे ज्यादा परेशानी स्थानीय निवासियों को हो रही है। हर तरफ के रास्ते पूरी तरह से बंद है। स्थानीय किराना दुकान और शराब की दुकानों पर किसानों की भीड़ लग रही है।

पहले तीन वर्ष इनका इस्तेमाल विरोध प्रदर्शन फिर बाद में चार साल तक इनका उपयोग प्रशिक्षण के लिए किया जाता है। प्रशिक्षण के दौरान आंसू गैस के उपयोग की जानकारी नए पुलिस अधिकारियों को दी जाती है।

इस मामले को हरियाणा भाजपा ने गंभीरता से लिया है और कहा है कि लोग अब तो इशारे समझें। हरियाणा भाजपा अध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़ ने इस घटना को बेहद गंभीर बताया है।