food

हर व्यक्ति अपने आप को स्वस्थ रखना चाहता है। डाक्टर से लेकर बैद्य, बड़े और बुढ़ो से सुना होगा कि अपने को स्वस्थ रखने के लिए भोजन अल्प मात्रा में करना चाहिए, साथ ही भोजन में हरे पत्तेदार सब्जियों का प्रयोग करना चाहिए जानता है

वैसे तो स्वस्थ रहने लिए कब खाएं, कैसे खाएं ये बताने के लिए टीवी पेपर वाले तैयार रहते हैं, लेकिन कब पीएं कैसे पीए कोई नहीं बताता।

आज कल जैसे जल्दी रिलेशनशिप बनते हैं वैसे जल्दी टूट भी जाते हैं। वर्तमान समय में बहुत जल्दी ब्रेकअप हो जाता है। इसकी कई वजहे हैं, लेकिन सबसे बड़ी वजह स्मार्टफोन हैं। कहीं ना कहीं फोन आपके रिश्ते को खराब कर रहा है।

रेस्टोरेंट और उसमें बैठकर खाना खाना कौन सी बड़ी बात है। इसके बारे में बात करके  कौन सा तीर मारने वाले हैं तो हम आपको बता दें कि  हम जिस रेस्तंरा के बारे में बात कर रहे हैं। वो ऐसा वैसा नहीं, बिल्कुल अनोखा रेस्टोरेंट है, यहां जाकर आप खाना तो खाना चाहेंगे, लेकिन रेस्टोरेंट में परोसे जाने का स्टाइल देखकर बिना खाए शायद  लौट आए।

अधिकतर लोग रोटी और चावल का सेवन एक साथ करते हैं। लेकिन इस खानपान से हमारी सेहत को नुकसान पहुंच सकता है। डॉक्टर्स सभी समस्याओं में रोटी और चावल को एक साथ ना खाने की सलाह देते हैं।

मानसून ने धीरे-धीरे अपने आगमन के संकेत दे दिए हैं और तापमान में कमी आने लगी हैं। जिसके चलते सैलानियों की संख्या में इजाफा होने लगा हैं।राजस्थान को अपनी विशेष संस्कृति और प्राकृतिक नजारों के लिए भी जाना जाता हैं जो यहां के पर्यटन को बढ़ावा देते हैं। मॉनसून का सीजन आ चुका हैं और इस मौसम में राजस्थान घूमने का आपना अलग ही मजा हैं।

चलने-फिरने पर खून का प्रवाह प्राकृतिक रूप से अपने आप ही हमारे हाथों-पैरों की ओर मुड़ जाता है और भोजन के लिए जो पर्याप्त मात्रा में खून हमारे पाचन तंत्र को चाहिए वो नहीं पहुंच पाता। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज शाम सात बजे अपने दूसरे कार्यकाल के लिए शपथ लेंगे। यह शपथ ग्रहण समारोह राष्ट्रपति भवन के प्रांगण में होगा। राष्ट्रपति भवन में इस आयोजन से जुड़ी तैयारियां जोर शोर से चल रही हैं।

 रोजे में इफ्तार के दौरान खजूर खाना चाहिए। खजूर सेहत के लिए फायदेमंद होता है। खजूर में आयरन होता है, जिससे शरीर को ऊर्जा मिलती है। इफ्तार के समय तला हुआ खाना शरीर के लिए हानिकारक होता है।

एक ही तेल को बार-बार इस्तेमाल करने से एसिडिटी, दिल संबंधी बीमारियां, ऐल्टशाइमर्ज़ डिज़ीज़, पार्किंसन्स डिज़ीज और गले में जलन हो सकती है।डीप फ्राइ के लिए एक बार इस्तेमाल किए गए तेल को दोबारा इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए,