gochar

लखनऊ: सूर्य को नवग्रहों के राजा की उपाधि दी गई है। प्राणी जगत के लिए यह ऊर्जा का केन्द्र है, इसलिए सूर्य को जगत की आत्मा कहा गया है। प्रत्येक जातक की कुंडली में सूर्य उनके पिता का प्रतिनिधित्व करता है इसलिए यह पितृ कारक भी होता है। रविवार से  सूर्य मेष राशि से वृषभ राशि …

हरिद्वार/सहारनपुर: सूर्य हमारे सौर मंडल का मूल तत्व है। ऊर्जा का विशाल स्रोत होने के कारण यह पृथ्वी लोक पर जीवन अस्तित्व के लिए अति आवश्यक है। ज्योतिष में सूर्य को आत्मा का कारक माना गया है और यह जातक की कुंडली में शौर्य एवं आत्म सम्मान को दर्शाता है। इसके अलावा यह जातक की …

लखनऊ:  वैदिक ज्योतिष शास्त्र में बुध ग्रह को शुभ ग्रह माना गया है। बुध तर्क शक्ति, गणित, संचार, लेखन, व्यापार, वाणी और बुद्धि का कारक होता है। बुध स्वभाव से युवा और सात्विक ग्रह है। बुध ग्रह सर्वदा बलि होता है। यह अच्छे ग्रहों के साथ शुभ फल देता है लेकिन क्रूर ग्रह का साथ …