gonda

उत्तर प्रदेश के गोंडा जिले से दिल दहला देने वाली खबर सामने आई है। जिले के उमरीबेगमगंज थाना क्षेत्र में सरयू नदी में नाव पलट गई है जिसमें एक शिक्षक की मौत हो गई जबकि 20 से अधिक लोग लापता हो गए। हादसे की जानकारी मिलने से हड़कंप मच गया है।

देश में नया ट्रैफिक नियम लागू होने के बाद से लोग भारी जुर्माने के डर सेनियमों का पालन कर रहे हैं, तो वहीं जो नियम तोड़ रहे हैं उन्हें जुर्माना भरना पड़ रहा है। सोशल मीडिया पर भी इसको लेकर खूब चर्चा है।

जिले के थाना कोतवाली नगर क्षेत्र के बनघुसरा गांव में शनिवार दोपहर हुए एक विस्फोट में तीन बच्चे जख्मी हो गए। तीनों को उपचार के लिए जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है।

तेज प्रताप सिंह गोंडा: देवीपाटन मंडल में अच्छी संख्या होने के बावजूद लोकसभा चुनाव में मुसलमान नेता टिकट की जंग हार गए। यहां की चार सीटों में एक पर भी भाजपा, कांग्रेस, सपा, बसपा ने किसी भी पार्टी ने किसी मुस्लिम प्रत्याशी को मैदान में नहीं उतारा। जबकि भाजपा को छोड़ अन्य सभी दल मुस्लिम …

जिले के इटियाथोक थाना क्षेत्र के एक गांव में सम्पत्ति विवाद में ससुर ने बेटों के साथ मिलकर अपने बड़े बेटे की पत्नी को कुल्हाड़ी से काट कर मौत के घाट उतार दिया। हत्या के बाद उसे छिपाने के लिए मृतका का शव गांव के एक बाग में मटर के ढंगचे से ढक दिया।

तेज प्रताप सिंह गोंडा। नेपाल से सटे देवी पाटन मण्डल की चार लोकसभा सीटें लगातार किसी राजनीतिक दल का गढ़ नहीं बनी। यहां हुए 16 आम चुनाव में कांग्रेस ने 23, जनसंघ और भाजपा ने 23, समाजवादी पार्टी ने 09 और मात्र एक बार बसपा, भारतीय लोकदल और 03 बार स्वतंत्र पार्टी के उम्मीदवारों ने …

राजधानी लखनऊ से करीब 117 किमी दूर और सीएम योगी आदित्यनाथ के गृहनगर गोरखपुर से 175 किमी की दूरी पर बसा है गोंडा जिला। राज्य के पिछड़े जिलों में इसका शुमार आज भी होता है। सरकारी योजना यहां आते-आते दम तोड़ने लगती हैं।

तेज प्रताप सिंह गोंडा। प्रदेश सरकार बेसिक स्कूलों को नया लुक देने की तैयारी में है। अलग-अलग मदों के लिए पैसा दिया जा रहा है,लेकिन जिस चीज की सबसे बड़ी जरुरत है उसके लिए चिंता नजर नहीं आती। ये जरुरत है स्कूलों की बिल्डंगों की। जिले में तमाम ऐसे स्कूल हैं जहां बच्चों के लिए …

तेज प्रताप सिंह गोंडा : सरकार शिक्षा पर प्रति वर्ष करोड़ों रुपए खर्च कर रही है लेकिन इसके बाद भी बच्चों के शैक्षिक स्तर में सुधार नहीं हो पा रहा है। तमाम सरकारी स्कूलों की इमारतें इतनी जर्जर हो चुकी हैं कि वहां कोई भी अपने बच्चों को नहीं भेजना चाहता। तमाम सुविधाओं के दावों …

तेज प्रताप सिंह गोंडा। जिले में आसरा आवास योजना के तहत 26.36 करोड़ रुपये की लागत से बनकर तैयार 600 आसरा आवासों के आवंटन न होने से पांच साल बाद भी शहर में रहने वाले गरीब परिवारों को छत नसीब नहीं हुई। पहले तो बजट के अभाव में यह योजना निर्धारित समय में पूरी नहीं …